65 लाख डैबिट कार्ड्स के डाटा चोरी से हड़कम्प, चीन-अमेरिका में निकाले गए भारतीयों के पैसे

  • 65 लाख डैबिट कार्ड्स के डाटा चोरी से हड़कम्प, चीन-अमेरिका में निकाले गए भारतीयों के पैसे
You Are Herebanking
Friday, October 21, 2016-8:52 AM

नई दिल्ली: स्टेट बैंक ऑफ  इंडिया (एस.बी.आई.) ने गत बुधवार को ही 6 लाख से भी ज्यादा डैबिट कार्ड एहतियाती तौर पर ब्लॉक किए हैं। इसके बाद अब खबर आ रही है कि एस.बी.आई. सहित 5 और बैंकों के करीब 65 लाख डैबिट कार्ड्स के डिटेल्स और पिन नंबर चोरी हो गए हैं। ऐसे कार्ड का इस्तेमाल उन ए.टी.एम्ज में किया जा रहा है जहां से मालवेयर के जरिए डाटा चुराया जा रहा है। जिन बैंकों का डाटा चोरी हुआ है उनमें एस.बी.आई., एच.डी.एफ.सी. बैंक, आई.सी.आई.सी.आई. बैंक, यैस बैंक और एक्सिस बैंक शामिल हैं।

जानकारों का कहना है कि इस तरह की सेंधमारी का यह पहला मामला नहीं है, लेकिन इतने बड़े स्तर पर ऐसी धोखाधड़ी होने का यह पहला मामला है। चोरी हुए डाटा में से करीब 26 लाख ‘वीजा’ और ‘मास्टर कार्ड’ हैं, जबकि बाकी ‘रुपए कार्ड’ हैं। इनमें से कुछ कार्ड्स का चीन और अमेरिका की कुछ जगहों पर अनधिकृत तौर पर इस्तेमाल हुआ है। हालांकि ज्यादातर बैंकों ने अभी इस तरह की किसी सेंधमारी की ऑफिशियल घोषणा नहीं की है। बताते चलें कि भारतीय रिजर्व बैंक की एक रिपोर्ट के मुताबिक, अभी पूरे देश में लगभग 60 करोड़ ए.टी.एम. कार्ड इस्तेमाल किए जा रहे हैं।

6 लाख ए.टी.एम. कार्ड रि-इशू करेगा एस.बी.आई.
इसी मध्य भारत के सबसे बड़े बैंक एस.बी.आई. ने गत दिवस ब्लॉक किए गए 6 लाख ए.टी.एम. कार्ड्स को रि-इशू करने का फैसला किया है। कुछ जानकारों ने कहा कि जिस तरह एस.बी.आई. ने बड़ी संख्या में नए डैबिट कार्ड इशू करने का फैसला किया है उससे लगता है कि मालवेयर ने कार्ड के हार्डवेयर सिक्योरिटी मॉड्यूल तक पहुंच बना ली है जहां से कार्ड की जानकारी और पिन नंबर जाना जा सकता है। इस समस्या से प्रभावित डैबिट कार्डों की संख्या बहुत अधिक है, लेकिन यह पूरे देश में इस्तेमाल हो रहे कार्डों के आधे प्रतिशत से भी कम है। डेटा में यह सेंध कुछ एटीएम प्रणालियों में साइबर मालवेयर हमले के रूप में हुई है। हालांकि, सरकार ने लोगों से कहा है कि वे घबराएं नहीं।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You