1.83 लाख एटीएम में अब तक नए नोटों का इंतजाम नहीं

  • 1.83 लाख एटीएम में अब तक नए नोटों का इंतजाम नहीं
You Are Herebanking
Saturday, November 19, 2016-10:20 AM

नई दिल्लीः प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 500 और 1000 के पुराने नोट बंद करने का ऐलान आठ नवंबर को किया था, इसके बाद से देश में इसको लेकर लोगों और बैंकों में हाहाकार मची हुई है। कैश क्राइसिस से परेशान हो रहे लोगों की परेशानी अभी कुछ और दिन तक कम नहीं होने वाली है। नोट बैन के फैसले के बाद से अबतक सिर्फ 13 फीसदी एटीएम ही 500 और 2000 रुपए के नए नोट निकालने के लिए तैयार हो पाए हैं। अभी भी देश भर में 1.83 लाख एटीएम में नए नोट निकलने का इंतजाम नहीं हो पाया है। ऐसे में ज्यादातर एटीएम से अभी 100 रुपए के ही नोट निकल रहे हैं और कैश जल्दी खत्म हो जा रहा है।

शुक्रवार तक 27000 एटीएम ही रिकैलिबरेट हो पाएं
फाइनेंस सेक्रेट्री शशिकांत दास ने जानकारी दी है कि शुक्रवार शाम 4 बजे तक 27000 एटीएम ही रिकैलिबरेट हो पाए हैं। इनसे अब 100 रुपए के पुराने नोट के अलावा 500 और 1000 रुपए के नए नोट भी निकाले जा सकते हैं। बुधवार को 10200 एटीएम और गुरूवार को 12700 एटीएम रिकैलिबरेट किए गए। शुक्रवार रात 12 बजे तक 37000 एटीएम रिकैलिबरेट किए जाने का टारगेट है।

अभी 1.83 लाख एटीएम में नहीं हो पाया है बदलाव
फाइनेंस सेक्रेट्री का कहना है कि शुक्रवार शाम 4 बजे तक 1.83 लाख एटीएम में नए नोटों के हिसाब से बदलाव नहीं हो पाया है। सरकार का टारगेट है कि रोज 10 से 12 हजार एटीएम में बदलाव किया जाए। इस लिहाज से सभी एटीएम रिकैलिबरेट होने में अभी 15 दिनों का समय लग सकता है।

हर एटीएम के लिए 1 इंजीनियर की जरूरत
फाइनेंस सेक्रेट्री का कहना है कि एक एटीएम को नए नोटों के हिसाब से तैयार करने के लिए 1 इंजीनियर और 1 कस्टोडियन की जरूरत होती है। अभी 2000 इंजीनियर और 40 हजार कस्टोडियन की ही उपलब्धता हे। इसी वजह से एटीएम को नए नोटों के हिसाब से तैयार करने में समत लग रहा है।

कैश क्राइसिस का अनुमान था
फाइनेंस सेक्रट्री का कहना है कि यह बात गलत है कि सरकार को नोट बैन के फैसले से कैश क्राइसिस का अनुमान नहीं था। हमें पहले से इस बात का अनुमान था और उसी हिसाब से तैयारी की गई है। अगले कुछ दिनों में यह कंट्रोल में आ जाएगा।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You