एनआरआई खातों पर ब्याज दरों में बढोतरी की उम्मीद कम

  • एनआरआई खातों पर ब्याज दरों में बढोतरी की उम्मीद कम
You Are HereBusiness
Saturday, August 17, 2013-4:42 PM

नई दिल्ली: रसातल में पहुंच गए रुपए को थामने की कोशिशों के तहत विदेशी पूंजी आकर्षित करने के लिए भारतीय रिजर्व बैंक की ओर से एनआरआई खातों पर ब्याज दरों को नियंत्रण मुक्त करने और एफसीएनआर खातों पर लगाई गई सीलिंग पर रियायत के फैसले के बावजूद बैंको की तरफ से इन पर ब्याज दरें बढाने की संभावना फिलहाल नहीं है।

 

बाजार के जानकारों के मुताबिक अर्थव्यवस्था की मौजूदा स्थिति को देखते हुए एनआरआई खातों में प्रवासी भारतीयों की ओर से पूंजी प्रवाह बढने की संभावना नहीं के बराबर है उल्टे ऐसा करने की स्थिति में उनके मार्जिन पर असर पड सकता है। बुधवार को विदेशी पूंजी प्रवाह के लिए नई व्यवस्थाओं की घोषणा में आरबीआई ने एनआरआई खातों पर दी जाने वाली ब्याज दर की सीमा खत्म करते हुए इस बारे में फैसला लेने का अधिकार बैंकों को सौंप दिया था।

 

इसके पूर्व व्यवस्था के तहत बैंकों को घरेलू निवेशकों को दी जाने वाली ब्याज दर से अधिक एनआरई खातों पर देने की मनाही थी। इसके साथ ही आरबीआई ने तीन से पांच वर्ष तक की अवधि वाली जमा पर विदेशी मुद्रा वाले एफसीएनआर खातों पर एक प्रतिशत की ब्याज दर सीमा को भी बढाकर चार प्रतिशत कर दिया था।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You