टेलीविंग्स मामला: कैग के आरोपों का खंडन कर सकता है दूरसंचार विभाग

  • टेलीविंग्स मामला: कैग के आरोपों का खंडन कर सकता है दूरसंचार विभाग
You Are HereBusiness
Tuesday, August 20, 2013-2:59 AM

नई दिल्ली: दूरसंचार विभाग यूनिनोर द्वारा 2008 में चुकाई गई लगभग 1650 करोड़ रुपये के लाइसेंस शुल्क के समायोजन की अनुमति देने के अपने फैसले को उचित ठहरा सकता है। विभाग ने इस राशि को टेलीविंग्स द्वारा चुकाये जाने वाली 4,018 करोड़ रुपये की राशि के बदले समायोजित किया था।

टेलीविंग्स ने 2012 की नीलामी में स्पेक्ट्रम जीता जिसके लिए उसे 4018 करोड़ रुपये चुकाने थे। सरकारी अंकेक्षक कैग ने दूरसंचार विभाग के फैसले पर सवालिया निशान लगाया है क्योंकि 1650 करोड़ रुपये के शुल्क का भुगतान यूनिटेक वायरलैस (यूनिनोर) ने किया था। इसमें टेलीनोर की बहुलांश हिस्सेदारी है। टेलीनोर अब यूनिनोर के कारोबार को टेलीविंग्स में स्थानांतरित कर रही है।

दूरसंचार विभाग के सूत्रों ने कहा, प्रतिभार या सैट आफ का फैसला मंत्रियों के अधिकारसंपन्न समूह ने किया था। यह फैसला विभिन्न ज्ञापनों तथा समान प्रत्यास्थापन के सिद्धांत के तहत किया गया। यह मत दूरसंचार विभाग द्वारा कैग को अपने जवाब में शामिल किए जाने की संभावना है।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You