गिरता रुपया: RBI और सरकार फेल, अर्थव्यवस्था 80 के दशक की ओर...

  • गिरता रुपया: RBI और सरकार फेल, अर्थव्यवस्था 80 के दशक की ओर...
You Are HereBusiness
Tuesday, August 20, 2013-1:33 PM

रुपए और शेयर बाजारों में गिरावट थमने का नाम ही नहीं ले रही है। रुपया मंगलवार को भी गिरकर 64 के स्तर को भी पार कर गया। जानकार इसे रूपए का अब तक का सबसे निचला स्तर बता रहे हैं। जानकारों की माने तो इस गिरते रुपए पर RBI और सरकार दोनों फेल हैं क्यूंकि यह रुपए में एतिहासिक गिरावट है। इस साल अब तक रुपए में 10.8 फीसदी की गिरावट आ चुकी है जो इस दौरान एशिया में किसी भी करंसी का सबसे खराब प्रदर्शन है।

बाजार में तबाही और हा-हा कार मची हुई है सेंसेक्स तीन दिन में 1400 अंक गंवा चुका है। बाजार के टूटने की वजह रुपया है। बैंकों एवं आयातकों की ओर से डॉलर की मांग बढ़ने के कारण अंतरबैंक विदेशी मुद्रा विनिमय बाजार में आज के शुरुआती कारोबार के दौरान डॉलर की तुलना में रुपए 64.05 पैसे की गिरावट आई जो रुपए का अबतक रिकॉर्ड निचला स्तर है। वहीं सोमवार को डॉलर के मुकाबले रुपया 63.13 पर बंद हुआ था।

देश की आर्थिक बदहाली, गिरता रूपया, बढ़ती महंगाई से देश सकते में है लेकिन वित्त मंत्री की जुबान से एक ही बात निकलती है कि घबराने की जरूरत नहीं है। इसमें कोई शक नहीं है कि वित्तमंत्री पी चिदंबरम काबिल मंत्री है लेकिन अच्छे और काबिल मंत्री की परीक्षा बुरे वक्त मे होती है।

मनमोहन सिंह के नेतृ्त्व वाली यूपीए–2 सरकार में देश की आर्थिक स्थिति बदहाली की तरफ बढ़ रही है। देश की आर्थिक स्थिति, रुपये की बदहाली, आसमान छूती महंगाई, गोता लगाता हुआ शेयर बाजार, घटता रोजगार, बैंक का बढता ब्याज दर, करेंट एकाउंट डेफिसिट रिकॉर्ड बेकाबू और फिसकल एकाउंट डेफिसिट का खास्ता हाल है यूं कहें देश की आर्थिक स्थिति पानी-पानी हो रही है तो अचरज नहीं होना चाहिए।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You