सीबीआई ने कहा, अनिल-टीना अंबानी को बुलाने से पहले हमसे संपर्क नहीं किया गया

  • सीबीआई ने कहा, अनिल-टीना अंबानी को बुलाने से पहले हमसे संपर्क नहीं किया गया
You Are HereNational
Sunday, August 25, 2013-8:40 PM

नई दिल्ली: सीबीआई के निदेशक रंजीत सिन्हा ने कहा है कि टू जी स्पेक्ट्रम मामले में उद्योगपति अनिल अंबानी और उनकी पत्नी टीना अंबानी को बुलाने से पहले सीबीआई से संपर्क नहीं किया गया और उनको बतौर गवाह बुलाने का निर्णय विशेष लोक अभियोजक यू. यू. ललित ने किया था।
    
एडीएजी के अध्यक्ष अनिल अंबानी सीबीआई की विशेष अदालत के समक्ष 22 अगस्त को और टीना अंबानी की 23 अगस्त को गवाही हुई थी। इसके बाद टू जी मामले की जांच कर रही सीबीआई का रूख आज पता चल सका।
    
टू जी स्पेक्ट्रम मामले की सुनवाई कर रहे सीबीआई के विशेष न्यायाधीश ओ. पी. सैनी के समक्ष वृहस्पतिवार को उपस्थित होकर अनिल ने जांच के दौरान फरवरी 2011 में दिए अपने बयान से इंकार किया था। टीना के मामले में सीबीआई ने दावा किया कि वह ‘‘जानबूझकर तथ्यों को छिपा’’ रही हैं जिसे न्यायाधीश ने अभियोजन के ‘‘विपरीत’’ पाया ।
    
सीबीआई निदेशक रंजीत सिन्हा ने यहां प्रेट्र से कहा, ‘‘अदालत की ओर से नियुक्त वकील यू. यू. ललित ने अतिरिक्त अभियोजन गवाहों को सम्मन किया था और इस बारे में हमसे कोई विचार-विमर्श नहीं किया गया ।’’
    
सिन्हा से जब पूछा गया कि क्या अनिल और टीना के रूख से मामले में सीबीआई जांच को झटका लगा है तब उन्होंने ये बात कही। सीबीआई निदेशक ने इसके आगे कुछ नहीं बताया लेकिन एजेंसी के सूत्रों ने कहा कि साक्ष्यों का अच्छी तरह दस्तावेजीकरण किया गया और बयानों से परिणाम पर कोई असर नहीं होगा।
    
54 वर्षीय उद्योगपति ने 22 अगस्त को गवाही के दौरान कहा कि वह फरवरी 2011 में सीबीआई के पास गए थे लेकिन सीबीआई अधिकारी को कोई नोट नहीं सौंपा था।

अपना सही जीवनसंगी चुनिए| केवल भारत मैट्रिमोनी पर- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन

Recommended For You