पेट्रोलियम कंपनियों ने की डीजल के दाम बढ़ाने की मांग

  • पेट्रोलियम कंपनियों ने की डीजल के दाम बढ़ाने की मांग
You Are HereBusiness
Tuesday, August 27, 2013-4:45 PM

नई दिल्ली: डॉलर की तुलना में रुपए में भारी गिरावट आई है। गिरावट के बाद आयात महंगा होने के मद्देनजर सार्वजनिक क्षेत्र की पेट्रोलियम कंपनियों ने डीजल के दाम में वृद्धि किए जाने की मांग की है, जिससे उनके बढ़ते घाटे को काबू में लाया जा सके। डीजल कीमतों में मासिक 50 पैसे प्रति लीटर की बढ़ोतरी से मई में इस ईंधन की बिक्री पर होने वाला नुकसान घटकर 3 रुपए प्रति लीटर पर आ गया था।

 

लेकिन इसके बाद रुपए में जारी गिरावट से यह नुकसान फिर बढ़कर 10.22 रुपए प्रति लीटर तक पहुंच गया। इंडियन ऑयल कारपोरेशन (आईओसी) के निदेशक वित्त पी के गोयल ने कहा, ‘‘हमने सरकार से तदर्थ आधार पर कीमतों में वृद्धि की मांग की है। कीमत वृद्धि का फैसला सरकार को करना है। भारत सरकार को इस पर निर्णय करना है। मैं इस पर टिप्पणी नहीं कर सकता।’’ इस माह की शुरूआत में डीजल पर नुकसान बढ़कर 10.22 रुपए प्रति लीटर हो चुका है, जो पहले 9.29 रुपए लीटर था।

 

डीजल के अलावा पेट्रोलियम कंपनियों को मिट्टी तेल पर प्रति लीटर 33.54 रुपए का नुकसान हो रहा है। इसके अलावा एलपीजी सिलेंडर पर उन्हें 412 रुपए का नुकसान हो रहा है। लद्दाख के लिए बाइक अभियान दल को रवाना करने के बाद गोयल ने कहा कि इस वित्त वर्ष की शुरूआत में डीजल और गैस सिलेंडर की बिक्री पर 80,000 करोड़ रुपए का नुकसान होने का अनुमान था, जो अब बढ़कर 1,40,000 करोड़ रुपए पर पहुंच गया है।

 

उन्होंने कहा कि अप्रैल के बाद से रुपया 12 प्रतिशत गिर चुका है। उस समय यह 59.39 प्रति डॉलर पर था, जो आज बढ़कर 64.10 प्रति डॉलर पर पहुंच चुका है। डॉलर की तुलना में रुपए का मूल्य एक रुपए घटने पर राजस्व नुकसान में 8,000 करोड़ रुपए की बढ़ोतरी होती है।
 

अपना सही जीवनसंगी चुनिए| केवल भारत मैट्रिमोनी पर- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन

Recommended For You