सेंसेक्स 18000 के नीचे, 144 स्टॉक्स 52 हफ्ते के न्यूनतम स्तर पर

  • सेंसेक्स 18000 के नीचे, 144 स्टॉक्स 52 हफ्ते के न्यूनतम स्तर पर
You Are HereBusiness
Tuesday, August 27, 2013-5:12 PM

मुंबई: डॉलर की तुलना में रिकार्ड निचले स्तर पर गिरे रुपए और खाद्य सुरक्षा योजना से राजकोष पर भारी बोझ की आंशकाओं से सहमें निवेशकों की बिकवाली की मार से घरेलू शेयर बाजार आज तीन प्रतिशत से ज्यादा की गिरावट पर बंद हुए।

 

भारी उतार-चढाव भरे कारोबार के बीच बाम्बे स्टाक एक्सचेंज (बीएसई) का सेंसेक्स 590.05 अंक गिरकर 18 हजार के स्तर से नीचे 17968.08 अंक के स्तर पर और नेशनल स्टाक एक्सचेंज (एनएसई) का निफ्टी 189.05 अंक घटकर 19 महीने के निचले स्तर 5287.45 अकं के स्तर पर आ गिरा। सेंसेक्स में 16 अगस्त के बाद की सबसे अधिक गिरावट रही। बीएसई का मिडकैप 112.50 अंक उतरकर 5278.28 अंक पर और स्मालकैप 89.79 अंक गिरकर 5199.66 अंक पर रहा। बीएसई पर144 स्टॉक्स 52 हफ्ते के न्यूनतम स्तर पर पहुंच गए हैं।
 

रुपया आज डॉलर के मुकाबले रिकार्ड निचले स्तर 66.07 रुपए प्रति डॉलर तक उतर गया। खाद्य सुरक्षा विधेयक के कल लोकसभा में पारित होने से इस महती योजना के लागू होने से पहले से ही चरमरा रहे राजकोष पर 20 अरब डॉलर का बोझ पडने की आंशका को बल मिला। निवेशकों ने बढते चालू खाता घाटे के संकट से जूझ रही अर्थव्यवस्था के लिए इसे अच्छा संकेत नहीं माना और बिकवाली पर उतर गए। रुपए की गिरावट से बीएसई समूह में बैंक वर्ग के शेयरों की तगडी पिटाई हुई।

 

आईटी वर्ग को छोडकर समूह के अन्य सभी वर्ग 0.53 से लेकर 5.34 प्रतिशत तक के नुकसान में रहे। सेंसेक्स में इन्फ्सोसि 0.91 प्रतिशत फायदे के साथ सबसे अधिक लाभ कमाने वाली कंपनी रही जबकि भेल ने 9.49 प्रतिशत घाटे के साथ सबसे ज्यादा नुकसान उठाया। सेंसेक्स पर आधारित 30 कंपनियों में से महज तीन लाभ में और बाकी सभी नुकसान में रही।
 


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You