‘देश को मजबूत लीडरशिप की जरूरत है’

  • ‘देश को मजबूत लीडरशिप की जरूरत है’
You Are HereBusiness
Wednesday, August 28, 2013-5:19 PM

नई दिल्ली: टाटा संस के पूर्व चेयरमैन और दिग्गज उद्योगपति रतन टाटा ने यूपीए सरकार पर हमला बोला है। रतन टाटा ने देश की खराब हालात पर अपनी चुप्पी तोड़ते हुए मौजूदा लीडरशिप पर सवाल उठाए हैं। उन्होंने कहा कि देश में लीडरशिप का संकट आर्थिक मुश्किलें बढ़ाता जा रहा है। रतन टाटा ने कहा कि देश को ऐसे नेता की जरूरत है, जो फ्रंट पर आकर नेतृत्व कर सके।

 

उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री की टीम और राजनीतिक वर्ग को एक दिशा में काम करने की जरूरत है, न कि राष्ट्रीय हित को ताक पर रखकर अपने-अपने एजेंडे पर चलने की। उन्होंने कहा, ‘ऐसे नेता भी हैं जिनका मैं सम्मान करता रहा हूं। लेकिन कुछ हुआ है कि वर्तमान नेतृत्व बिखर गया है। हमारे पास वैसा नेतृत्व नहीं है, जिसकी हम बात करते हैं और जो फ्रंट पर आकर नेतृत्व करे।’

 

रतन टाटा ने कहा, ‘सियासी नेतृत्व को एक साथ काम करने की जरूरत है। आज सरकार में हर मंत्री अलग-अलग दिशाओं में काम कर रहा है। राज्य भी अपने हिसाब से चल रहे हैं। केंद्र सरकार और राज्यों के बीच सामंजस्य का कमी है। खराब नेतृत्व की वजह से आर्थिक समस्याएं और बढ़ीं हैं।’

 

रतन टाटा ने नरेंद्र मोदी के बारे में कहा, ‘मोदी ने गुजरात में अपना नेतृत्व साबित किया है और राज्य को आगे बढ़ाया। हालांकि, नैशनल लेवल पर वह गुजरात जैसा काम कर पाएंगे या नहीं यह कहना मुश्किल है।’ मोदी की तारीफ करने का साथ ही रतन टाटा ने यह भी कहा कि वह प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह की काफी इज्जत करते हैं।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You