सहारा ने कहा, सेबी की जानबूझ कर आदेश की अवहेलना

  • सहारा ने कहा, सेबी की जानबूझ कर आदेश की अवहेलना
You Are HereBusiness
Tuesday, September 03, 2013-9:00 AM

नई दिल्ली: सहारा समूह ने निवेशकों को 24 हजार करोड़ रुपए लौटाने के मामले में सेबी पर जल्दबाजी करने का आरोप लगाते हुए आज उच्चतम न्यायालय से अनुरोध किया कि इस झमेले से उसे निकलने में मदद के लिए एक उचित आदेश पारित किया जाए। सहारा समूह की 2 कम्पनियों ने कहा कि सेबी के जरिए निवेशकों का धन लौटाने के शीर्ष अदालत के आदेश की जानबूझकर अवहेलना नहीं की गई है। सहारा समूह की कम्पनियों ने इस मामले में सेबी के आचरण पर सवाल उठाया है।

 

न्यायमूर्ति के.एस. राधाकृष्णन और न्यायमूर्ति जे.एस. खेहड़ की खंडपीठ के समक्ष सहारा की ओर से वरिष्ठ अधिवक्ता राम जेठमलानी और डा. राजीव धवन ने दावा किया कि सेबी ने जानबूझ कर आदेश की अवहेलना की है और इसी वजह से यह स्थिति उत्पन्न हुई। उन्होंने कहा कि उच्चतम न्यायालय कोई ऐसा आदेश पारित करे जिससे इस ‘झमेले’ से निकला जा सके।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You