विमान ईंघन पर वैट घटाएं राज्य सरकारें: अजित

  • विमान ईंघन पर वैट घटाएं राज्य सरकारें: अजित
You Are HereBusiness Knowledge
Tuesday, September 10, 2013-10:43 AM

नई दिल्ली: केन्द्र सरकार ने पिछले वित्त वर्ष करीब 10 हजार करोड का घाटा उठा चुकी और लगभग 90 हजार करोड के कर्ज में डूबी घरेलू विमानन कंपनियों की दशा को देखते हुए राज्य सरकारों से विमान ईंधन पर लगाए जाने वाले मूल्य सवंर्द्धित कर (वैट) में चार प्रतिशत तक की कटौती करने का सुझाव दिया है।

नागर विमानन मंत्री अजित सिंह ने विमान ईंधन की बढी कीमतों के कारण विमानन कंपनियों पर अतिरिक्त बोझ बढने के खतरे को देखते हुए राज्य सरकारों से इसमें कमी करने को कहा। सिंह आज यहां उड्डयन मंत्रियों और राज्य सचिवों की बैठक में बोल रहे थे। उन्होंने कहा कि अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर ऊंची कीमतों के कारण वैसे भी तेल कीमतें बढ रही हैं इस पर वैट का अतिरिक्त बोझ इन कंपनियो की मुश्किलें और बढा रहा है। सिंह ने कहा कि मौजूदा समय विमान ईंधन पर वैट 4 से 30 प्रतिशत तक लगता है।

उन्होंने कहा कि वैसे छत्तीसगढ, झारखंड, मध्यप्रदेश और पश्चिम बंगाल जैसे राज्यों ने हाल में विमान ईंधंन पर वैट में कमी की है ‘मैं इन राज्यों को इसके लिए धन्यवाद देना चाहता हूं और उम्मीद करता हूं कि अन्य राज्य भी इस ओर कदम बढाएंगे।’ सिंह ने कहा कि वैट घटने से छत्तीसगढ में विमान ईंधन की कीमतों मे काफी कमी आई है जिसका फायदा इस राज्य को यहां उडानों की संख्या बढने के रुप में मिला है।

उन्होंने राज्यों के सचिवो से अनुरोध किया कि वह अपनी सरकारों को वैट घटाने के लिए मनाएं और विमानन उद्योग को सहारा दें।   देश के दूसरे और तीसरे Ÿोणी के शहरों में हवाई अड्डों के विकास पर सिंह ने कहा कि इसके लिए केन्द्र ने सरकारी और निजी भागीदारी से देश भर में 20 हवाई अड्डों के परिचालन, प्रबंधन और विकास की योजना बनाई है। इनमें कोलकाता और चेन्नई के हवाई अड्डे भी शामिल हैं।
 

अपना सही जीवनसंगी चुनिए| केवल भारत मैट्रिमोनी पर- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन

Recommended For You