आधार दर बढने से ब्याज होगा महंगा

  • आधार दर बढने से ब्याज होगा महंगा
You Are HereBusiness
Sunday, September 22, 2013-2:05 PM

नई दिल्ली: भारतीय रिजर्व बैंक द्वारा अल्पकालिक ऋण दरों में बढोतरी किये जाने से लागत बढने के मद्देनजर बैंक ब्याज दरों में बढोतरी कर सकते हैं। देश के प्रमुख बैंकरों ने रिजर्व बैंक की ऋण एवं मौद्रिक नीति में किये गये बदलाव के मद्देनजर जमा और ऋण दोनो ब्याज दरों में बढोतरी किये जाने की संभावना जतायी है।

सबसे बडे सरकारी बैंक भारतीय स्टेट बैंक के अध्यक्ष प्रतीप चौधरी ने कहा है कि त्यौहारी सीजन शुरू हो चुका है और इस दौरान ऋण की भारी मांग आनी वाली है लेकिन बैंक जमा राशि की कमी से जुझ रहे है। इसके मद्देनजर जमा आकर्षित करने के लिए जमा दरो में बढोतरी होने पर ऋण ब्याज दरों में भी बढोतरी करनी पडेगी। निजी क्षेत्र के दूसरे बडे बैंक एचडीएफसी बैंक के मुख्य कार्यकारी अधिकारी एवं प्रबंध निदेशक आदित्य पुरी ने कहा है कि रिजर्व बैंक की नीति की वजह से नहीं बल्कि बैंकों की 10.50 प्रतिशत और इससे अधिक जमा दरे होने से ऋण पर ब्याज दरो में बढोतरी होगी।

उन्होंने कहा कि बैंकों को आधार दर भी बढानी पडेगी। पिछले तीन पखवाडे में ऋण के उठाव में वृद्धि हुयी है और कार्पोरेट बौंड पर ब्याज दरों के बढकर 18 प्रतिशत तक पहुंचने की वजह से कंपनियों ने गैर परिवर्तिनीय ऋणपत्र और वाणिज्यिक पत्र के स्थान पर बैंकों से ऋण लेना शुरू कर दिया है। गत छह सिंतबर को समाप्त सप्ताह में गैर खाद्य ऋण की मांग में वार्षिक 18.40 प्रतिशत बढोतरी दर्ज की गयी।

विश्लेषको का कहना है कि रिजर्व बैंक की नयी नीति से अल्पकालिक ऋण दरों में बदलाव की उम्मीद नहीं है लेकिन दीर्घकालिक ऋण दरों में 0.15 प्रतिशत से 0.20 प्रतिशत तक की वृद्धि हो सकती है।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You