जीवन बीमा उद्योग 15 प्रतिशत की दर से बढेगा

  • जीवन बीमा उद्योग 15 प्रतिशत की दर से बढेगा
You Are HereBusiness
Sunday, September 22, 2013-3:59 PM

नई दिल्ली: जीवन बीमा के प्रति लोगों में बढती जागरूकता से अगले पांच वर्ष में यह उद्योग 15 प्रतिशत तक की वार्षिक वृद्धि के साथ वर्ष 2020 तक देश की ढांचागत परियोजनाओं के लिए 3.50 लाख करोड़ रुपए का वित्त उपलब्ध कराने में सक्षम हो जायेगा। देश में जीवन बीमा क्षेत्र में कार्यरत कंपनियों के प्रमुख संगठन जीवन बीमा परिषद ने यह अनुमान लगाते हुये कहा है कि वर्ष 2020 तक औसत आयु 74 वर्ष होने पर उस समय देश में बीमा योग्य आबादी 75 करोड़ होने की उम्मीद है।

इससे देश में बीमा उद्योग को न सिर्फ अपने लक्ष्य को हासिल करने में मदद मिलेगी बल्कि अगले सात वर्षों में प्रति परिवार बचत दर भी बढकर 35 प्रतिशत पर पहुंच जायेगी। संगठन ने कहा है कि अगले पांच वर्षों में बीमा उद्योग के कारोबार में वार्षिक 12 से 15 प्रतिशत तक की बढोतरी होने का अनुमान है और देश के सकल घरेलू उत्पाद में बीमा प्रीमियम की हिस्सेदारी वर्ष 2020 तक वर्तमान के 3.2 प्रतिशत से बढकर पांच प्रतिशत पर पहुंच जायेगी।

परिषद के महासचिव पी मनिकम ने कहा है कि पिछले कुछ वर्षों से बेहतर प्रदर्शन करने में असफल रहा जीवन बीमा उद्योग का बुरा वक्त अब समाप्त हो गया है। कंपनियों के नये उत्पाद पेश करने, परिचालन क्षेत्र बढाने और कार्य क्षमता में बढोतरी करने से यह उद्योग अब तेजी से आगे बढेगा।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You