महंगाई दर आठ महीने के उच्चतम स्तर पर

  • महंगाई दर आठ महीने के उच्चतम स्तर पर
You Are HereBusiness
Monday, October 14, 2013-3:36 PM

नई दिल्ली: आर्थिक सुस्ती जल्दी खत्म होने के तमाम सरकारी दावों को झुठलाते हुए थोक मूल्स सूचकांक पर आधारित मंहगायी दर लगातार चौथे महीने बढकर सितबंर माह में आठ महीने के उच्चतम स्तर 6.46 प्रतिशत पर पहुंच गयी। मंहगायी दर में आयी इस तेजी के पीछे प्याज, आलू, फल, सब्जियों और दूध की कीमतों में बेतहाशा वृद्धि प्रमुख वजह रही।

सरकार की ओर से आज जारी आंकडों के अनुसार अगस्त में थोक महंगायी दर 6.10 प्रतिशत थी। जबकि पिछले साल की इसी अवधि में यह 8.07 प्रतिशत थी। जुलाई के लिए महंगाई दर पहले के 5.79 प्रतिशत अनुमानित की तुलना में 5.85 प्रतिशत पर टिकी रही। थोक मूल्य सूचकांक में 14.34 प्रतिशत का भारांक रखने वाली खाद्य महंगाई दर अगस्त के 18.18 प्रतिशत के मुकाबले बढकर 18.40 प्रतिशत पर पहुंच गई। पिछले साल सितम्बर में यह 8.06 प्रतिशत थी।

आलू, प्याज, फल, सब्जियों और दूध के दामों में बढोतरी से खाद्य महंगाई दर में बढोतरी दर्ज की गई। सितम्बर में प्याज बढने की रफ्तार 322.94 प्रतिशत रही। दूध 5.77 प्रतिशत, चावल 18.76 प्रतिशत, गेहूं 5.90 प्रतिशत, फल 13.54 प्रतिशत, सब्जियां 89.37 प्रतिशत, अंडा, मांस, मछली 13.37 प्रतिशत और अनाज 13.05 प्रतिशत की रफ्तार से बढे। हालांकि इस दौरान दालों की कीमतों में 13.42 प्रतिशत की गिरावट दर्ज की गई।

थोक मूल्य सूचकांक में 64.97 प्रतिशत का भारांक रखने वाले विनिर्मित उत्पादों की महंगाई अगस्त के 1.90 प्रतिशत की तुलना में 2.03 प्रतिशत की रफ्तार से बढी। ईंधन एवं ऊर्जा वर्ग की महंगाई अगस्त के 11.34 प्रतिशत की तुलना में 10.08 प्रतिशत रही।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You