बिकवाली की मार से गिरा बाजार, सेंसेक्स 60 अंक लुढका

  • बिकवाली की मार से गिरा बाजार, सेंसेक्स 60 अंक लुढका
You Are HereBusiness
Tuesday, October 15, 2013-5:15 PM

मुंबई: घरेलू शेयर बाजार की तेजी पर मंगलवार को मंहगायी के आंकडें और अमेरिका में कर्ज संकट को लेकर बनी अनिश्चितता भारी पड गई। जिससे दोनों ही प्रमुख सूचकांक गिरावट लेकर पर बंद हुए। बैकिंग, रियलटी, कंज्यूमर ड्यूरेबल्स, पीएसयू और कैपिटल गुड्स वर्ग के शेयरो में चौतरफ बिकवाली से बाम्बे शेयर बाजार का सूचकांक सेंसेक्स 60 अंक की गिरावट लेकर 20547.62 अकं के स्तर पर और नेशनल स्टाक एक्सचेंज (एनएसई) का निफ्टी 23.65 अंक घटकर 6089.05 अंक के स्तर पर सिमट गया।

बीएसई का मिडकैप सूचकांक 76.82 अंक नीचे 5829.99 अंक के स्तर पर और स्मालकैप 54.48 अंक गिरकर 5693.21 अंक के स्तर पर रहा। सोमवार को सरकार की ओर से जारी थोक और खुदरा मंहगायी दर के आंकडों का असर आज बाजार पर साफ दिखाई दिया। इन आंकडों ने आगे रिजर्व बैंक की ओर से इस महीने के आखिर में मौद्रिक समीक्षा में नीतिगत ब्याज दरों में कमी की घटती गुंजाइश ने बाजार में निवेशक धारणा को कमजोर बनाया।

हालांकि धातु, आईटी, टेक और एफ्एमसीजी वर्ग कें लिवाली ने बाजार को ज्यादा गिरावट पर जाने से बचाए रखा। खासी तेजी लेकर खुला सेंसेक्स बीच सत्र में तीन वर्ष के उच्चतम स्तर 20759.58 अंक के ऊपर तक चढा। बाद के सत्र में बिकवाली के दबाव से यह 20446.73 अंक के निचले स्तर तक भी उतरा। निफ्टी ने भी मजूबत शुरुआत की। बीच कारोबार में यह 6156.30 अंक के ऊंचे और 6056.55 अंक के निलचे स्तर भी देखा गया। सेंसेक्स में टाटा स्टील, भारती एयरटेल, विप्रो, हिंडाल्को और हिन्दुस्तान यूनि मुनाफ कमाने वाली शीर्ष पांच कंपनियां रहीं।

इन्होंने 0.83 से लेकर 2.82 प्रतिशत तक का लाभ कमाया। दूसरी ओर हीरो मोटोकार्प, एचडीएफ्सी बैंक, एसबीआई, टाटा पावर और आईसीआईसीआई बैंक ने सबसे ज्यादा नुकसान उठाने वाली पांच प्रमुख कंपनियां रही। इनके शेयर 1.98 प्रतिशत से लेकर 2.44 प्रतिशत तक कमजोर रहे।
 


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You