ट्रेनों में शुरू होगी मोबाइल टिकटिंग सेवा

  • ट्रेनों में शुरू होगी मोबाइल टिकटिंग सेवा
You Are HereBusiness
Friday, October 18, 2013-2:46 PM

नई दिल्ली: रेलवे ट्रेनों में वाई फाई ब्राडबैण्ड सेवा सुलभ कराने और उसके माध्यम से कोचों में सीटों की ऑनलाइन निगरानी और मोबाइल उपकरण से गाडी में टिकट बनाने की महत्वाकांक्षी योजना पर फिर से काम शुरू करेगी। रेलवे बोर्ड के अध्यक्ष अरूणेन्द्र कुमार ने कल देर शाम रेल मंत्रालय के उपक्रम रेलटेल निगम लिमिटेड के वार्शिक समारोह को संबोधित करते हुए यह संकेत दिया।

समारोह में रेलवे बोर्ड के सदस्य, विद्युत, कुलभूषण, सदस्य, इंजीनियरिंग, सुबोध जैन भी उपस्थित थे। समारोह की अध्यक्षता निगम के अध्यक्ष एवं प्रबंध निदेशक आर के बहुगुणा भी उपस्थित में की गई। कुछ वर्ष पहले रेलवे ने ट्रेनों में टिकट परीक्षकों को मोबाइल डिवाइस देने और आरक्षण चार्ट का काम उसी उपकरण से करने की योजना की घोषणा की थी। रेलवे का मानना था कि इससे चलती गाडियों में सीटों की स्थिति ऑनलाइन उपलब्ध होने और उसी प्रकार से मोबाइल टिकटिंग की प्रणाली से टिकट जारी किये जाने से पारदर्षिता रहेगी और टिकट परीक्षकों के भ्रष्टाचार की संभावना पर अंकुश लगाया जा सकता है।

लेकिन बाद में नेटवर्क की समस्या और धन की कमी की वजह से यह योजना आगे नहीं बढ सकी थी। कुमार ने तेरह साल के अल्पकाल में दूरसंचार क्षेत्र में रेलटेल निगम लिमिटेड के प्रदर्शन एवं उसकी साख की सराहना करते हुए कहा कि रेलटेल रेलवे स्टेशन परिसरों को वाई फाई पद्धति और ब्राडबैण्ड से लैस करना चाहिये और टीटीई के माध्यम से सस्ते स्मार्टफोन से मोबाइल टिकटिंग की योजना को तेजी से आगे बढाना चाहिये। रेलवे ने इसी वर्ष चलती ट्रेन में वाई फाई सेवा की शुरूआत की है। कोलकाता राजधानी एक्सप्रेस में यात्रियों के लिये यह सेवा पायलट प्रोजेक्ट के रूप में शुरू की गई है।

रेलवे के सूत्रों ने बताया कि ऐसा विचार किया जा रहा है कि सभी गाडियों को चरणबद्ध ढंग से वाई फाई सुविधा से लैस किया जाये और ट्रेन टिकट परीक्षकों को सस्ते स्मार्ट फोन उपकरण देकर उनकी सहायता से आरक्षण चार्ट को ऑन लाइन भरने एवं खाली सीटों के लिये टिकट जारी करने की व्यवस्था लागू की जाए। सूत्रों के अनुसार इस प्रणाली के लागू होने के बाद चलती गाडियों का आरक्षण भी आन लाइन कराया जा सकेगा। आपात स्थिति में जाने वाले यात्रियों को सीट के लिये टीटीई के चक्कर काटने की जरूरत नहीं होगी।

रेलटेल निगम ने देशभर में 42 हजार किलोमीटर आप्टिकल फाइबर केबल (ओएफसी) लाइन बिछाई है और देश में करीब 4200 छोटे बडे कस्बों एवं शहरों में ओएफसी नेटवर्क तैयार किया है। रेलटेल निगम ने बैंकों, सेना, रेलवे एवं अन्य सरकारी उपक्रमों को भी नेटवर्क सुविधा उपलब्ध करायी है।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You