तेल सब्सिडी बोझ अब ‘कमर तोडऩे’ लगा है: ओएनजीसी

  • तेल सब्सिडी बोझ अब ‘कमर तोडऩे’ लगा है: ओएनजीसी
You Are HereBusiness
Friday, November 22, 2013-4:46 PM

कोलकाता: तेल एवं प्राकृतिक गैस निगम (ओएनजीसी) ने कहा है कि पेट्रोलियम सब्सिडी का बोझ अब कमरतोड़ साबित होने लगा है। इससे संकेत मिलता है कि तेल की खोज एवं उत्पादन करने वाली कंपनियों के लिए सब्सिडी का बोझ इस साल काफी बढ़ सकता है। ओएनजीसी के चेयरमैन एवं प्रबंध निदेशक सुधीर वासुदेव ने कल शाम सब्सिडी की स्थिति के बारे में पूछे जाने पर कहा, ‘‘सब्सिडी का बोझ अब कमरतोड़ स्थिति में है। वे कह रहे हैं कि इस साल सब्सिडी का संयुक्त बोझ बढ़कर 1,40,000 करोड़ रुपए पर पहुंच जाएगा।’’

भारतीय सनदी लेखा संस्थान (आईसीएआई) के सालाना सम्मेलन के मौके पर वासुदेव ने अलग से कहा, ‘‘महत्वपूर्ण यह है कि सरकार इसमें से कितना बोझ लेने को तैयार है। यदि सरकार सारा बोझ हम पर डालती है, तो क्या होगा।’’ वासुदेव ने कहा कि चालू वित्त वर्ष की पहली छमाही में ओएनजीसी सब्सिडी 23,400 करोड़ रुपए रही है। रुपए की कमजोरी तथा कच्चे तेल के बढ़ते दाम की वजह से पेट्रोलियम विपणन कंपनियों (ओएमसी) के लिए सब्सिडी चालू वित्त वर्ष में 1,40,000 करोड़ रुपए पर पहुंच सकती है। वित्त वर्ष की शुरुआत में इसके 80,000 करोड़ रुपए रहने का अनुमान लगाया गया था।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You