'भारत से 2002-11 के बीच 343 अरब डॉलर काला धन विदेश भेजा गया'

  • 'भारत से 2002-11 के बीच 343 अरब डॉलर काला धन विदेश भेजा गया'
You Are HereBusiness
Thursday, December 12, 2013-3:58 PM

वाशिंगटन: कालाधन विदेश भेजने के मामले में भारत 2002-11 के बीच पांचवां सबसे बड़ा देश रहा। वॉशिंगटन स्थित वित्तीय अनुसंधान संगठन की रपट के अनुसार इस दौरान भारत से कुल 343.04 अरब डॉलर कालाधन विदेश भेजा गया। रपट के अनुसार केवल 2011 में ही देश से 84.93 अरब डॉलर की काली कमाई बाहर भेजी गई। वर्ष के दौरान देश इस मामले में तीसरे स्थान पर रहा।

इलिसिट फाइनेंशियल फ्लोज फ्रॉम डेवलपिंग कंट्रीज (2002-2011) यानी विकासशील देशों से अवैध धन का प्रवाह (2002-2011) में कहा गया है कि 2011 में विकासशील देशों से अपराध, भ्रष्टाचार, और करापवंचन के जरिए 946.7 अरब डॉलर का धन विदेशों में चला गया। यह 2010 की तुलना में 13.7 प्रतिशत अधिक है। ग्लोबल फाइनेंशियल इंटिग्रिटी (जीएफआई) द्वारा कल प्रकाशित इस ताजा रपट के अनुसार 2002-11 के दौरान विकासशील देशों से 5,900 अरब डॉलर काली कमाई विदेश भेजी गई।

जीएफआई वॉशिंगटन का अनुसंधान और प्रचार संगठन है। जीएफआई के अध्यक्ष रेमंड बेकर कहा, ‘‘जहां एक ओर विश्व अर्थव्यवस्था वैश्विक वित्तीय संकट के चलते हिचकोले खा रही थी, वहीं काली कमाई की दुनिया खूब फल-फूल रही थी। इस दौरान साल दर साल विकासशील देशों से उत्तरोत्तर अधिक काला धन बाहर भेजा जाता रहा है।’’ बेकर ने कहा कि अकेले 2011 में ही गरीब देशों से करीब 1,000 अरब डॉलर की काली कमाई विदेशों में भेजी गयी।

उन्होंने कहा कि इसके लिए, ‘‘बेनामी, छद्म कंपनियों, काले धन के पनाहगाहों तथा व्यापार के जरिये मनी-लांड्रिंग की तिकड़मों का इस्तेमाल किया गया।’’ रिपोर्ट में कहा गया है कि 2011 में जहां 946.7 अरब डॉलर की काली कमाई विदेशों को भेजी गई, वहीं 2010 में यह आंकड़ा 832.4 अरब डॉलर था। 2002 में काला धन विदेश भेजने का आंकड़ा 270.3 अरब डॉलर का था। अध्ययन में अनुमान लगाया गया है कि विकासशील देशों ने 2002 से 2011 के दौरान काली कमाई के रूप में 5,900 अरब डॉलर का धन गंवाया है।

रिपोर्ट में बताया गया है कि दूसरे देशों को काला धन भेजने वाला शीर्ष 15 देशों में से 6 एशिया के हैं। एशियाई देशों में इस सूची में चीन, मलेशिया, भारत, इंडोनेशिया, थाइलैंड व फिलिपीन हैं। वहीं दो देश अफ्रीका के नाइजीरिया व दक्षिण अफ्रीका, चार यूरोप के रूस, बेलारूस, पोलैंड व सर्बिया, दो पश्चिमी देश मेक्सिको व ब्राजील व एक मेना क्षेत्र में इराक है। पिछले 10 बरस में काले धन के प्रवाह के मामले में चीन 1,080 अरब डॉलर के साथ शीर्ष पर रहा है। उसके बाद रूस 880.96 अरब डॉलर, मेक्सिको 461.86 अरब डॉलर व मलेशिया 370.38 अरब डॉलर का नंबर आता है। जीएफआई के मुख्य अर्थशास्त्री देव कार ने कहा, ‘‘यह काफी कष्टदायक है कि किस तरह का काले धन का प्रवाह बढ़ रहा है।’’


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You