‘भारत की ऋण स्थिति कमजोर कर सकती है निम्न वृद्धि, ऊंची मुद्रास्फीति’

  • ‘भारत की ऋण स्थिति कमजोर कर सकती है निम्न वृद्धि, ऊंची मुद्रास्फीति’
You Are HereBusiness
Friday, January 10, 2014-9:24 AM

नई दिल्ली: वैश्विक रेटिंग एजेंसी मूडीज ने आज आगाह किया कि निम्न वृद्धि तथा ऊंची मुद्रास्फीति देश की ऋण स्थिति (प्रोफाइल) को कमजोर कर सकती है और वित्तीय लागत बढ़ा सकती है। मूडीज ने एक रपट में कहा है कि अगर निम्न वृद्धि तथा ऊंची मुद्रास्फीति का मौजूदा क्रम फौरी तौर पर बना रहता है तो सरकारी ऋण को वहन करने की घरेलू वित्तीय प्रणाली की क्षमता में अच्छी खासी गिरावट आ सकती है।

इसमें कहा गया है कि इससे जहां सरकारी ऋण ढांचे में बदलाव आएगा वहीं ऋण त्तिपोषण (फिनांसिंग) लागत बढेगी तथा सरकारी ऋण अनुपात कमजोर होगा।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You