मुंबई को मिला विश्वस्तरीय हवाईअड्डा टर्मिनल

  • मुंबई को मिला विश्वस्तरीय हवाईअड्डा टर्मिनल
You Are HereBusiness
Saturday, January 11, 2014-2:22 PM

मुंबई: मुंबई को आज विश्वस्तरीय हवाईअड्डा टर्मिनल टी 2 मिल गया जिसमें अपनी तरह की सबसे बड़ी आर्ट गैलरी है और यह देश की सांस्कृतिक विरासत का शानदार नमूना लिए हुए हैं। इस टर्मिनल की डिजाइन नृत्य करते मयूर से प्रेरित है। यह टर्मिनल फरवरी से परिचालन में आएगा। टी 2 को 9,800 करोड़ रुपए के निवेश से बनाया गया है।

प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने इसे राष्ट्र को समर्पित करते हुए कहा, ‘‘यह विश्वस्तरीय ढांचा तैयार करने की हमारी क्षमता प्रदर्शित करता है। टी 2 सचमुच प्रथम दर्जे का टर्मिनल है। इसने देश में नागर विमानन के क्षेत्र विकास में एक नए अध्याय की शुरुआत की है।’’ करीब 4.39 लाख वर्ग मीटर क्षेत्र में फैले टर्मिनल 2 को इस तरह से डिजाइन किया गया है कि यह सालाना 4 करोड़ यात्रियों का बोझ उठा सके। टर्मिनल में 3 किलोमीटर तक कलाकृतियों से उरेकी गई दीवार पर हजारों की संख्या में कलाकृतियां हैं जिनका नाम ‘जय हे’ दिया गया है।

जय हे आगंतुकों को देश की विविधताओं से भरी सांस्कृतिक विरासत की झलक देता है। इसमें मुंबई की जीवनशैली को भी दिखाने का प्रयास किया गया है जहां बड़ी संख्या में दूसरे राज्यों से आए लोग काम करते हैं। अत्याधुनिक टी 2 सिंगापुर के चांगी टी 3 (3.80 लाख वर्ग मीटर) और लंदन के हीथ्रो टी 5 (3.53 लाख वर्ग मीटर) से भी बड़ा है। व्यवस्ततम घंटों में यह टर्मिनल 9,900 यात्रियों को संभाल सकेगा।

जीवीके की अगुवाई वाले कंसोर्टियम द्वारा तैयार इस टर्मिनल की लागत 32 प्रतिशत से अधिक बढ़ गई। जहां तक सुविधाओं का संबंध है, इस टर्मिनल में 188 चेक-इन काउंटर, विमान पकडऩे वाले यात्रियों के लिए 60 आव्रजन स्थल और विमान से आने वाले यात्रियों के लिए 76 आव्रजन काउंटर हैं। इसके अलावा, यात्रियों को 47 एस्केलेटर और 73 एलेवेटर की सुविधा होगी। टर्मिनल की अन्य सुविधाओं में 52 बोडि’ग गेट, करीब 11,000 सीटें, 101 शौचालय, 44 ट्रैवलेटर्स, 16 लाउंज और 10 बैगेज कैरोसेल्स शामिल हैं।

अपना सही जीवनसंगी चुनिए| केवल भारत मैट्रिमोनी पर- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन

Recommended For You