लोगों का हमें ‘सक्रियतावादी’ कहना व्यथित करता है: सेबी प्रमुख

  • लोगों का हमें ‘सक्रियतावादी’ कहना व्यथित करता है: सेबी प्रमुख
You Are HereBusiness
Saturday, January 11, 2014-5:37 PM

नई दिल्ली: कारोबारी हितों के खिलाफ काफी सक्रिय होकर काम करने की आलोचना से विचलित हुए बिना सेबी चेयरमैन यू के सिन्हा ने आज कहा कि वह अक्सर धोखाधड़ी और साठगांठ का शिकार होने वाले निवेशकों का विश्वास बढ़ाने के लिये कदम उठाते रहेंगे। सिन्हा ने कहा, ‘हम अपना कोई भी निर्णय सभी संबद्ध पक्षों से विचार विमर्श के बाद करते हैं और उसके बाद ही उपाय करते हैं। लेकिन जब आप लोग यह कहते हैं कि हम आपके व्यावसाय को प्रभावित करने वाले कार्यकता के तौर पर काम करते हैं, तो यह हमें आहत करता है।’

एसोसिएशन ऑफ नेशनल एक्सचेंजेज मेम्बर्स ऑफ इंडिया (एएनएमआई) के सालाना अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलन को संबोधित करते हुए सेबी प्रमुख ने कहा कि जोखिम प्रबंधन या निवेश सुरक्षा के लिये सेबी जो कदम उठा रहा है, उसे संबद्ध इकाइयों द्वारा बोझ नहीं समझा जाना चाहिए। उन्होंने कहा, ‘भले ही आप इसे पसंद करे या नहीं, हमें समाज की जरूरतों के अनुरूप कदम उठाने होंगे और हमें दीर्घकालीन वृद्धि को ध्यान में रखकर आगे बढऩा होगा। इसीलिए ऐसा मत सोचिए कि हम अधिक सक्रियता से काम करने की कोशिश कर रहे हैं क्योंकि हम जो कुछ भी कर रहे हैं, उसका मकसद भारतीय बाजार में दीर्घकालीन विश्वास पैदा करना है।’

सिन्हा ने कहा कि देश में निरंतर वृद्धि के लिए निवेशकों का विश्वास बढ़ाना तथा कानून में निश्चितता कुछ महत्वपूर्ण तथ्य हैं। हालांकि सेबी चेयरमैन ने कहा कि हाल के घोटालों तथा गड़बड़ी की वजह से बाजार में निवेशकों का विश्वास घटा है।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You