मार्च अंत तक 20 नए बाजारों को दोपहिया का निर्यात करेंगे: हीरो

  • मार्च अंत तक 20 नए बाजारों को दोपहिया का निर्यात करेंगे: हीरो
You Are HereAutomobile
Sunday, January 12, 2014-11:58 AM

नई दिल्ली: देश की सबसे बड़ी दोपहिया वाहन कंपनी हीरो मोटोकार्प विदेशों में अपने विस्तार कार्यक्रम को फिर शुरू करने जा रही है। कंपनी की मार्च, 2014 तक दुनिया के 20 बाजारों में अपनी उपस्थिति दर्ज कराने की योजना है, जिसमें कम से कम चार असेंबली परिचालन शामिल होंगे। कंपनी की लातिनी अमेरिका के बाजारों के लिए कोलम्बिया में एक विनिर्माण इकाई की स्थापना की तैयारी है।

कंपनी चालू वर्ष के पहले तीन महीनों में एक साझा उपक्रम समझौते को अंतिम रूप देगी। हीरो मोटर कार्प के प्रबंध निदेशक और मुख्य कार्यकारी अधिकारी (सीईओ) पवन मुंजाल ने बताया, ‘हम अपने वैश्विक बाजार विस्तार कार्यक्रम को तेज कर रहे हैं। वर्ष 2014 की पहली तिमाही में हम मध्य अमेरिका में इथियोपिया, तुर्की और निकारागुआ में प्रवेश करेंगे। अल्पावधि का लक्ष्य मार्च के अंत तक 20 नये बाजारों में प्रवेश करना है।’

कंपनी ने तंजानिया, युगांडा, बुरंडी, मिस्र, इक्वाडोर और बांग्लादेश जैसे नये बाजारों में अपने वाहन भेजना पहले ही शुरू कर दिया है। मुंजाल ने कहा, ‘तंजानिया और युगांडा में हमारे पास केन्या की तरह स्थानीय असेंबली सुविधा होगी। इसी प्रकार से बांग्लादेश में भी हमारे पास स्थानीय असेंबली परिचालन का काम होगा।’ तंजानिया और युगांडा में असेंबली परिचालन की स्थापना की जा रही है जबकि बांग्लादेश का असेंबली परिचालन इस वर्ष के उत्तराद्र्ध में शुरू होने की उम्मीद है।

हीरो मोटर कार्प ने पिछले वर्ष केन्या के नैरोबी में असेंबली परिचालन शुरू किया था। कोलम्बिया के लिए योजना के बारे में पूछने पर उन्होंने कहा, ‘स्थानीय कानून के तहत कुछ निश्चित हद तक हमारे लिए विनिर्माण करने की आवश्यकता है। हम एक साझा उपक्रम के लिए समझौते को अंतिम रूप देने की प्रक्रिया में हैं जो वर्ष 2014 की पहली तिमाही में होना चाहिए।’ प्रस्तावित साझा उपक्रम के ब्योरे का खुलासा न करते हुए मुंजाल ने कहा कि कोलम्बिया में विनिर्माण संयंत्र का इस्तेमाल अन्य लातिनी अमेरिकी बाजारों में वाहन उतारने के लिए किया जाएगा।

अगस्त में कंपनी ने वर्ष 2020 तक 50 नए बाजारों में उतरने के योजना की घोषणा की थी। इसके तहत दुनिया में 20 विनिर्माण
सुविधाओं की स्थापना और कुल मिलाकर वार्षिक कारोबार 60,000 करोड़ रुपए करने का लक्ष्य था। 31 मार्च, 2013 को समाप्त वित्तवर्ष में कंपनी का कारोबार करीब 24,000 करोड़ रुपए का था। कंपनी अपने वार्षिक बिक्री का 10 प्रतिशत निर्यात बाजार से प्राप्त करने का लक्ष्य कर रही है यानी उसे वर्ष 2017 तक 10 लाख वाहनों का निर्यात करना होगा।

हीरो मोटर कार्प ने वर्ष 2020 तक कुल बिक्री का लक्ष्य 10 करोड़ इकाई का निर्धारित किया है। पिछले साल कंपनी ने 5 करोड़ इकाई की बिक्री का लक्ष्य हासिल किया था। चालू वित्तवर्ष में अभी तक अप्रैल से दिसंबर 2013 की अवधि में कंपनी की बिक्री 46,56,433 इकाई की हुई जो पिछले वर्ष की समान अवधि में 45,48,232 इकाई की बिक्री से 2.37 प्रतिशत अधिक है।

अपना सही जीवनसंगी चुनिए| केवल भारत मैट्रिमोनी पर- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन

Recommended For You