सेंसेक्स, निफ्टी में 3 फीसदी की गिरावट

  • सेंसेक्स, निफ्टी में 3 फीसदी की गिरावट
You Are HereBusiness
Saturday, February 01, 2014-12:11 PM

मुंबई: देश के शेयर बाजारों के प्रमुख सूचकांकों में गत सप्ताह करीब तीन फीसदी तक गिरावट दर्ज की गई। बंबई स्टॉक एक्सचेंज (बीएसई) का 30 शेयरों पर आधारित संवेदी सूचकांक सेंसेक्स गत सप्ताह 2.93 फीसदी या 619.71 अंकों की गिरावट के साथ शुक्रवार को 20,513.85 पर बंद हुआ। नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई) का 50 शेयरों पर आधारित संवेदी सूचकांक निफ्टी 2.83 फीसदी या 177.25 अंकों की गिरावट के साथ 6,089.50 पर बंद हुआ।

गत सप्ताह सेंसेक्स के 30 में से सात शेयरों में तेजी रही। भेल (4.69 फीसदी), गेल (2.57 फीसदी), हिंदुस्तान यूनिलीवर (0.99 फीसदी), भारती एयरटेल (0.59 फीसदी) और महिंद्रा एंड महिंद्रा (0.59 फीसदी) में सर्वाधिक तेजी रही। गिरावट वाले शेयरों में प्रमुख रहे मारुति सुजुकी (7.74 फीसदी), एक्सिस बैंक (7.24 फीसदी), सेसा स्टरलाइट (7.03 फीसदी), एचडीएफसी बैंक (6.68 फीसदी) और आईसीआईसीआई बैंक (6.56 फीसदी)।

बीएसई के मिडकैप और स्मॉलकैप सूचकांकों में भी गिरावट दर्ज की गई। मिडकैप 2.28 फीसदी या 147.21 अंकों की गिरावट 6,308.05 पर और स्मॉलकैप 2.81 फीसदी या 181.11 अंकों की गिरावट के साथ 6,263.35 पर बंद हुआ। गत सप्ताह के प्रमुख घटनाक्रमों में भारतीय रिजर्व बैंक ने मंगलवार 28 जनवरी को बाजार को आश्चर्यचकित करते हुए मुख्य नीतिगत दरों में 0.25 फीसदी वृद्धि कर दी। इसके अगले दिन अमेरिकी केंद्रीय बैंक फेडरल रिजर्व ने भी मासिक आर्थिक प्रोत्साहन पैकेज को 10 अरब डॉलर और घटा दिया।

रिजर्व बैंक ने 2013-14 की मौद्रिक नीति की तीसरी तिमाही की समीक्षा में रेपो दर को 25 आधार अंक बढ़ाकर आठ फीसदी कर दिया। इसके साथ ही रिवर्स रेपो दर को भी 25 आधार अंक बढ़ाकर सात फीसदी कर दिया गया। बैंक ने सीमांत स्थायी सुविधा (एमएसएफ) को नौ फीसदी कर दिया। बैंक ने हालांकि नकद आरक्षित अनुपात को चार फीसदी पर बरकरार रखा। वैश्विक बाजार में अमेरिकी फेडरल रिजर्व ने बुधवार को 75 अरब डॉलर के मासिक प्रोत्साहन को 10 अरब डॉलर और घटाकर 65 अरब डॉलर कर दिया। इससे पहले इसे 85 अरब डॉलर से घटाकर 75 अरब डॉलर किया गया था। फेड ने यह भी कहा कि इसे धीरे धीरे घटाते हुए समाप्त कर दिया जाएगा।

फेड के प्रोत्साहन पैकेज से भारत सहित कई अन्य उभरते बाजारों में पूंजी का पर्याप्त प्रवाह बना हुआ था। अब इस प्रवाह के घटने की उम्मीद की जा सकती है। विदेशी संस्थागत निवेशकों (एफआईआई) ने जनवरी में 30 तारीख तक की स्थिति के मुताबिक देश में 714.30 करोड़ रुपए का पोर्टफोलियो निवेश किया। एफआईआई ने दिसंबर 2013 में 16085.80 करोड़ रुपए का पोर्टफोलियो निवेश किया था। एफआईआई ने 2013 में देश में 1,13,135.70 करोड़ रुपए का पोर्टफोलियो निवेश किया था।
 


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You