मोबाइल हैंडसेट बाजार में ‘स्क्रीन वार’

  • मोबाइल हैंडसेट बाजार में ‘स्क्रीन वार’
You Are HereBusiness
Sunday, March 02, 2014-12:43 PM

नई दिल्ली: मोबाइल हैंडसेट बाजार में टेक्नोलॉजी से ज्यादा बड़े स्क्रीन को लेकर गलाकाट प्रतिस्पद्र्धा चल रही है। इस मामले में कोरियाई गैजेट कंपनी सैमसंग फिलहाल सबसे आगे हैं लेकिन इसको चुनौती देने के लिए चीन की टेलीकॉम कंपनी हुवावे सात इंच स्क्रीन वाला फोन (मीडियापैड एक्स) लेकर बाजार में उतर गई है।

बड़े स्क्रीन वाले स्मार्टफोन की लोकप्रियता इस बात से आंकी जा सकती है कि सैमसंग ने फिनलैंड की नोकिया जैसी दिग्गज कंपनी को सिर्फ बड़े स्क्रीन के आधार पर ही पछाड़ कर  दुनिया के मोबाइल हैंडसेट बाजार के बड़े हिस्से पर अपना कब्जा जमाया है।

सैमसंग ने  इसके  लिए बाकायदा एक सर्वेक्षण रिपोर्ट का हवाला देते हुए कहा है कि एशियाई देशों में उपभोक्ताओ ने ऐसे हैंडसेटों के प्रति ज्यादा दिलचस्पी दिखाई है जिसके बड़े स्क्रीन हैं जिनपर वह आसानी से संदेश लिख सकें, खींची गई तस्वीरों को अच्छी तरह देख सकें और इसके साथ ही गेम्स, नक्शे, नैविगेशन, सर्च इंजन , वॉयस सर्च, म्यूजिक और यू-ट्यूब जैसे फ्चीरों का भरपूर आनंद ले सकें।

सैमसंग का मानना है कि बड़े स्क्रीन वाले फोन सिर्फ एशियाई देशों में ही नहीं बल्कि अमेरिका और पश्चिमी देशों में भी लोकप्रिय होंगे। यह धारणा अकेले सैमसंग की ही नहीं है बल्कि हुवावे, नोकिया, एचटीसी, मोटोरोला और सोनी जैसी कंपनियां भी इस सच को स्वीकार कर चुकी हैं। बार्सिलोना  में आयोजित अंतर्राष्ट्रीय मोबाइल मेले में सैमसेंग की ओर से पेश किया गया  5.1 इंच स्क्रीन वाला गैलेक्सी एस 5, सोनी का 5.2 इंच की स्क्रीन वाला एक्सपीरिया जेड टू और जेडटीई का 6 इंच की स्क्रीन वाला ग्रैंड मेमो टू ने इस बात की पुष्टि की है।

चीन की कंपनी हुवावे इस चलन को देखते हुए ही मीडियापैड एक्स के नाम से जो स्मार्टफोन लेकर आई है उसके स्क्रीन का आकार सात इंच है। इतने बड़े आकार के स्क्रीन आमतौर पर टैबलेट्स के होते हैं।

बाजार अध्ययन करने वाली कंपनी आईडीसी के अनुसार वैश्विक स्तर पर गत वर्ष निर्यात किए गए कुल स्मार्टफोन में से दुनिया में स्मार्टफोन का सबसे बड़ा बाजार माने जाने वाले चीन को जो 20 प्रतिशत फोन निर्यात किए गए वह पांच इंच या इससे अधिक बड़े स्क्रीन वाले थे।

प्रौद्योगिकी बाजार  पर नजर रखने वाली संस्था गार्टनर के अनुसार भारत में बड़े स्क्रीन वाले स्मार्टफोन का बाजार 180 प्रतिशत की सालाना दर से बढ़ रहा है जबकि कंप्यूटरों और नोटबुक की बिक्री घट रही है। भारत में इस रू झान को देखते हुए ही सोनी ने भारतीय बाजार में अपनी पैठ बढ़ाने की रणनीति बनाई है। कपंनी का मामना है कि वित्त वर्ष 2014.15 में कंपनी के राजस्व में 40 फ्सीदी हिस्सा स्मार्टफोन और टैबलेट की बिक्री से अर्जित आय का होगा।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You