अब प्रयोगशाला में उगेंगे नाक और कान!

  • अब प्रयोगशाला में उगेंगे नाक और कान!
You Are HereBusiness
Wednesday, March 05, 2014-12:35 PM

अब वह दिन दूर नहीं जब कान और नाक प्रयोगशाला उगाए जाएंगे और उन्‍हें मानव के शरीर में ट्रांसप्लांट किया जा सकेगा। ब्रिटेन के वैज्ञानिक लैब में नाक और कान उगाने की योजना बना रहे हैं।

लंदन के ग्रेट अरमंड स्ट्रीट अस्पताल के डॉक्टरों ने इंसान के शरीर के वसा से स्टेम सेल निकालकर लैब में कार्टिलेज यानी नरम हड्डी विकसित कर ली है। उम्‍मीद है कि इसका उपयोग जन्‍म से माइक्रोटिया से पीड़ित और किसी हादसे के शिकार लोगों के कान और नाक बनाने में किया जा सकता है।

अब इस नई तकनीक के जरिए डॉक्‍टर वसा का एक छोटा सा टुकड़ा बच्‍चों के शरीर से निकालेंगे। इस टुकड़े से स्टेम सेल निकालकर उसे विकसित किया जा सकता है। कान के आकार के एक ढांचे को स्टेम सेल के घोल में रखा जाएगा। इससे कोशिका ठीक उसी प्रकार का आकार लेगी जैसा ढांचा डाला गया है। इस प्रक्रिया में रसायनों का उपयोग स्टेम सेल को कार्टिलेज सेल में विकसित करने में किया जाएगा।

ग्रेट अरमंड स्ट्रीट अस्पताल के प्‍लास्टिक सर्जन नील बुलस्‍ट्रोड ने कहा, 'यह वास्तव में रोमांचक है कि हम स्‍टेम सेल की मदद से कार्टिलेज बना सकते हैं। यह एक बहुत बड़ी उपलब्धि है।' एक रिपोर्ट के मुताबिक इस तकनीक की मदद से कान तो उगाया जा सकता है, लेकिन इससे सुनने की क्षमता विकसित नहीं की जा सकती है।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You