देश में बढ़ा कच्चे हीरों का आयात, सोना और आभूषण का घटा

  • देश में बढ़ा कच्चे हीरों का आयात, सोना और आभूषण का घटा
You Are HereBusiness
Thursday, March 06, 2014-3:19 PM

नई दिल्ली: देश में जनवरी माह में बिना तराशे हीरों का आयात बढऩे से रत्न एवं आभूषण वर्ग में कुल आयात 8 प्रतिशत बढ़कर 15,161 करोड़ रुपए तक पहुंच गया। सोने की छड़ एवं आभूषण आयात पर प्रतिबंध जारी रहने से इनके आयात में लगातार गिरावट का रुख बना हुआ है। रत्न एवं आभूषण निर्यातकों के संगठन रत्न एवं आभूषण निर्यातक सवंधर्न परिषद (जीजेईपीसी) ने यह जानकारी दी है। 

पिछले साल इसी माह देश में रत्न एवं आभूषणों का आयात 14,026 करोड़ रुपए रहा था। जीजेईपीसी की ओर से आज जारी आंकड़ों के मुताबिक कच्चे हीरों का आयात बढऩे से देश के रत्न एवं आभूषण आयात में तेजी आई। आंकड़ों के अनुसार बिना तराशे कच्चे हीरों का आयात जनवरी में 46 फीसदी बढ़कर 7,803.63 करोड़ रुपए पर पहुंच गया, जो एक साल पहले 5,358 करोड़ रुपए रहा था। इसी प्रकार मोती का आयात भी तेजी से बढ़कर 469.28 करोड़ रुपए पर पहुंच गया, जो एक साल पहले मात्र 2.02 करोड़ रुपए रहा था।

इसके विपरीत सोने की छड़ का आयात जनवरी 2014 में 30 फीसदी घटकर 2,824.56 करोड़ रुपए रह गया, जो पिछले साल इसी माह 4,037 करोड़ रुपए पर था। स्वर्ण आभूषण का आयात भी समीक्षाधीन अवधि में 24 फीसदी घटकर 461.20 करोड़ रुपए रह गया, जबकि रंगीन रत्नों का आयात 79 फीसदी घटकर 113.33 करोड़ रुपए रह गया। कटे और तराशे हीरों का आयात जनवरी में 2.23 फीसदी घटकर 3,179.63 करोड़ रुपए पर आ गया।

भारत में सोने की पूरी मांग की पूर्ति विदेशों से आयात के जरिए होती है। कच्चे तेल के बाद सोने का सबसे ज्यादा आयात होता है। सरकार ने चालू खाते के घाटे पर अंकुश लगाने के लिये सोना आयात नियंत्रित करने के उपाय किए। सोने के आयात पर आयात शुल्क में तीन बार वृद्धि कर इसे 10 प्रतिशत पर पहुंचा दिया गया इसके अलावा सोना आयात को निर्यात के साथ जोड़ दिया गया।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You