नकली दवा बनाने के आरोप में रनबैक्सी का लाइसेंस होगा निरस्त!

  • नकली दवा बनाने के आरोप में रनबैक्सी का लाइसेंस होगा निरस्त!
You Are HereBusiness
Friday, March 14, 2014-4:04 PM

नई दिल्ली: उच्चतम न्यायालय ने नकली दवा बनाने के आरोपों के मद्देनजर देश की प्रमुख दवा निर्माता कंपनी रनबैक्सी का लाइसेंस निरस्त किए जाने और मामले की जांच केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) से कराने संबंधी एक याचिका पर आज केंद्र सरकार और कंपनी से जवाब तलब किया। हालांकि न्यायालय ने रनबैक्सी को दवा बनाने से रोकने के लिए अंतरिम आदेश जारी करने से इनकार कर दिया।

याचिकाकर्ता पेशे से वकील मनोहर लाल शर्मा ने मुख्य न्यायाधीश पी सदाशिवम की अध्यक्षता वाली खंडपीठ के समक्ष दलील दी कि दवा निर्माता कंपनी देश में नकली दवाओं का उत्पादन एवं वितरण कर रही है और इसकी जांच सीबीआई से कराई जानी चाहिए। शर्मा ने न्यायालय से आग्रह किया कि वह इस मामले में आरोपी कंपनी का लाइसेंस निरस्त करने का केंद्र सरकार को निर्देश दें। हालांकि खंडपीठ ने कहा ‘इस मामले पर विचार किया जाना आवश्यक है, लेकिन वह फिलहाल दवाओं के वितरण और आपूर्ति पर रोक लगाने पर अपना अंतरिम आदेश नहीं देगा।’

याचिकाकर्ता ने पहले भी इसी तरह की एक याचिका दायर की थी, लेकिन पर्याप्त दस्तावेज के अभाव में न्यायालय ने उसकी सुनवाई करने से इनकार कर दिया था। हालांकि न्यायालय ने कहा था कि याचिकाकर्ता पर्याप्त दस्तावेजों और सबूतों के साथ उसका दरवाजा खटखटा सकता है।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You