मंदी के बावजूद रोजगार के अवसर बढ़े

  • मंदी के बावजूद रोजगार के अवसर बढ़े
You Are HereBusiness
Wednesday, March 19, 2014-1:11 AM

कोलकाता: मंदी के दौर से गुजरने के बावजूद भारतीय विनिर्माण क्षेत्र में 11वीं पंचवर्षीय योजना के दौरान रोजगार में 28.5 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज की गई। उद्योग संगठन एसोचैम के इकोनॉमिक रिसर्च ब्यूरो की जारी वार्षिक सर्वेक्षण रिपोर्ट में कहा गया है कि वित्त वर्ष 2007-08 से वित्त वर्ष 2011-12 के बीच पंजीकृत विनिर्माण क्षेत्र में 29 लाख नए रोजगार के अवसर पैदा हुए।

रिपोर्ट में कहा गया है कि वित्त वर्ष 2007-08 में इस क्षेत्र में 1 करोड़ 4 लाख 50 हजार रोजगार उपलब्ध थे जबकि वित्त वर्ष 2011-12 के दौरान इस क्षेत्र में 1 करोड़ 34 लाख 30 हजार लोग काम कर रहे थे। रोजगार सृजन में सबसे ज्यादा योगदान खाद्य पदार्थों, धातु, अधातु, खनिज उत्पाद, वाहन, मशीन एवं उपकरण, सिले-सिलाए वस्त्र, रबड़ और प्लास्टिक उद्योगों का रहा है। इन सभी उद्योगों में 20 प्रतिशत से ज्यादा की बढ़ौतरी हुई।

वहीं रसायन तथा रासायनिक उत्पादों से जुड़े उद्योगों में रोजगार के अवसर 24.5 प्रतिशत कम हुए हैं जबकि कपड़ा क्षेत्र में रोजगार के अवसर 0.1 प्रतिशत गिरे। एसोचैम ने विनिर्माण क्षेत्र की कंपनियों को वैश्विक प्रतिस्पर्धा में टिके रहने के लिए ग्रामीण क्षेत्र के युवाओं को प्रशिक्षण देकर उन्हें इस क्षेत्र के लिए कुशल कर्मी के रूप में तैयार करने की सलाह दी है।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You