आयकर रिटर्न की ई-फाइलिंग: करदाताओं को मिलेगा डिजिटल हस्ताक्षर

  • आयकर रिटर्न की ई-फाइलिंग: करदाताओं को मिलेगा डिजिटल हस्ताक्षर
You Are HereBusiness
Sunday, March 23, 2014-12:49 PM

नई दिल्ली: इलेक्ट्रॉनिक तरीके से भरे गए रिटर्न की प्रति (हार्ड कापी) डाक से भेजे जाने में होने वाली समस्या को दूर करने के इरादे से आयकर विभाग ने करदाताओं की पहचान के सत्यापन के लिए इलेक्ट्रॉनिक हस्ताक्षर की व्यवस्था शुरू करने का फैसला किया है। केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड (सीबीडीटी) ने नई प्रणाली अगले वित्त वर्ष के अंत मार्च 2015 से लागू करने का निर्णय किया है। 

मामले से जुड़े आधिकारिक सूत्रों ने कहा कि सीबीडीटी ई-रिटर्न (आईटीआर 5) के लिए नई व्यवस्था क्रियान्वित करने से पहले कानूनी स्थिति तथा प्रौद्योगिकी जरुरतों को पूरा करने के लिए कानून और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय से संपर्क करेगा। एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा, ‘‘यह अभी देखा जाना है कि करदाताओं द्वारा इलेक्ट्रॉनिक या डिजिटल हस्ताक्षर प्राप्त करने की प्रक्रिया क्या होगी। इससे उन करदाताओं पर अतिरिक्त खर्च या प्रक्रियागत बोझ पड़ सकता है जो आयकर रिटर्न आनलाइन भरने का विकल्प अपनाते हैं।’’

डिजिटल हस्ताक्षर का उपयोग फिलहाल कंपनियां कर रही हैं। यह एक बयान होता है जो भेजने वाले की पहचान का सत्यापन करता है। डिजिटल हस्ताक्षर की स्थिति में शुल्क का भुगतान कर इसे सृजित किया जाता है और इसका नियमित नवीनीकरण होता है। यही कारण है कि इसे नौकरीपेशा और अन्य श्रेणी के करदाताओं पर एक बोझ के रूप में देखा जा रहा है। इतना ही नहीं विभाग की उक्त समयसीमा के अंदर स्रोत पर कर कटौती वाले दस्तावेज की अपने आधिकारिक वेब पोर्टल के जरिए ई-फाइलिंग की व्यवस्था शुरू करने की भी योजना है। फिलहाल इसका उपयोग करदाता इलेक्ट्रॉनिक रिटर्न भरने के लिए करते हैं।
 


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You