एयर इंडिया को हो सकता है 5400 करोड़ रुपए का घाटा

  • एयर इंडिया को हो सकता है 5400 करोड़ रुपए का घाटा
You Are HereBusiness
Monday, March 31, 2014-2:38 PM

नई दिल्ली: खर्चों में कटौती और कमाई बढ़ाने की तमाम कोशिशों के बावजूद वित्त वर्ष 2014 में एयर इंडिया को रोजाना 11 करोड़ रुपए के नुकसान के हिसाब से करीब 5400 करोड़ रुपए का घाटा होने की आशंका है जबकि इसके चार हजार करोड़ रुपए पर सीमित रहने का अनुमान जताया गया था। एयर इंडिया के अनुसार परिचालन खर्चों में बढ़ोतरी के कारण कंपनी पर भारी वित्तीय बोझ है।

विमान ईंधन लगातार महंगा होने से पारिचालन खर्चे बढ़ गए हैं। डॉलर की तुलना में रुपए के कमजोर रहने से भी कंपनी की हालत बिगड़ रही है। मौजूद वित्त वर्ष की दूसरी तिमाही एयर इंडिया के लिए सबसे खराब रही। इस दौरान कंपनी 700 करोड़ रुपए से भी ज्यादा से अपना आय लक्ष्य चूक गई। घरेलू स्तर पर एयलाइनों के बीच किराए को लेकर छिडी जंग के कारण इस अवधि में एयर इंडिया से यात्रा करने वाले यात्रियों की संख्या में काफी गिरावट आई।

हालांकि एयर इंडिया जिसने वित्त वर्ष 2012 में 7100 करोड़ का शुद्ध घाटा उठाया था वित्त वर्ष 2013 में इसे 5100 करोड़ रुपए पर सीमित रखने में कामयाब रही थी लेकिन वित्त वर्ष 2014 में उसके लिए स्थितियां फिर से खराब दिख रही हैं। बाजार से पूंजी जुटाने के नजरिए से भी वित्त वर्ष 2014 कंपनी के लिए खराब ही नजर आ रहा है। इस अवधि में कंपनी की ओर से परिसपंत्तिया बेच कर महज 400 करोड़ रुपए ही जुटा सकने की संभावना है जबकि इसके लिए 1200 करोड़ रुपए का लक्ष्य रखा गया था।

कंपनी नई दिल्ली स्थित अपनी चार एकड़ जमीन बेचने में नाकाम रही। यदि यह सौदा हो जाता तो कंपनी को 800 करोड़ रुपए मिल जाते। मौजूदा स्थितियों में कंपनी की ओर से आलोच्य वित्त वर्ष 1040 करोड़ रुपए का परिचालन मुनाफा अर्जित करने का लक्ष्य चूकने की पूरी आशंका है और यह 770 करोड़ रुपए पर सिमट सकता है। कंपनी की हालत यह है कि वह बगैर सरकारी मदद के चलने की हालत में नहीं है। सरकार ने कंपनी को वित्त वर्ष 2021 तक 30 हजार करोड़ रुपए की मदद का वायदा किया है जिसमें से पिछले दो वर्षों के दौरान 13200 करोड़ रुपए दिए जा चुके हैं।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You