विमान परिचारिकाओं की ड्यूटी के लिए अलग नियम पेश

  • विमान परिचारिकाओं की ड्यूटी के लिए अलग नियम पेश
You Are HereBusiness
Tuesday, April 01, 2014-2:44 PM

नई दिल्ली: विमानन नियामक डीजीसीए ने विमान परिचारिकाओं व सहायक कर्मचारियों के लिए उड़ान संबंधी अलग नियम जारी किए हैं जो सभी एयरलाइनों व गैर-सूचीबद्ध परिचालकों की उड़ानों पर अनिवार्य रूप से लागू होंगे। आधिकारिक सूत्रों ने कहा कि नए नियमों के तहत केबिन क्रू के लिए उड़ान की अवधि, ड्यूटी व बाकी अवधि का निर्धारण किया गया है। नयी नागर विमानन आवश्यकता (सीएआर) अंतर्राष्ट्रीय नागर विमानन संगठन की आवश्यकता पर आधारित है जिसके तहत हस्ताक्षरकर्ता देशों को उड़ान संबंधी समय सीमा आदि का नियमन करना होगा।

उल्लेखनीय है कि केबिन क्रू के कामकाज का ढांचा कॉकपिट क्रू के कामकाज के ढांचे से अलग होता है। केबिन क्रू को लंबे समय तक काम करना पड़ता है और आपात स्थिति में उन्हें यात्रियों की मदद करनी होती है। नए सीएआर के तहत संचालक के लिए यह सुनिश्चित करने की अनिवार्यता है कि यदि केबिन क्रू का कोई सदस्य थक जाता/जाती है तो उसे उड़ान में शामिल नहीं किया जाएगा।

नए नियमों के तहत जहां छह घरेलू क्षेत्रों ‘या छह बार उतरने एवं छह बार उड़ान भरने’ पर न्यूनतम ड्यूटी की अवधि लगातार 12 घंटे की है, अंतर्राष्ट्रीय उड़ान के लिए यह 11 घंटे है और यह चार क्षेत्र से अधिक नहीं होना चाहिए। इसी तरह, नियमों के तहत उड़ान के बाद विश्राम की अवधि का भी उल्लेख किया गया है।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You