नोटबंदी का 'खर्च पर सीधा असर': फिच

  • नोटबंदी का 'खर्च पर सीधा असर': फिच
You Are HereBusiness
Tuesday, June 20, 2017-4:31 PM

नई दिल्ली: गत वर्ष नवंबर में 500 और 1,000 रुपए के पुराने नोट बंद किए जाने का 'खर्च पर प्रत्यक्ष प्रभाव' पड़ा जिसकी वजह से जनवरी-मार्च तिमाही की वृद्धि धीमी पड़ी। फिच रेटिंग्स ने चेतावनी देते हुए कहा कि मौजूदा निवेश में कमी का असर वृद्धि के आंकड़ों पर पड़ेगा। अपनी नवीनतक वैश्विक आर्थिक परिदृश्य रिपोर्ट में फिच ने कहा कि भारतीय जी.डी.पी.  (सकल घरेलू उत्पाद) में 2017 की पहली तिमाही में 'महत्वपूर्ण' गिरावट देखी गई और यह 6.1 प्रतिशत रहा जबकि अक्तूबर-दिसंबर की तिमाही में यह आंकड़ा 7 प्रतिशत था। यह वित्त वर्ष 2013-14 के बाद की चौथी तिमाही के बाद सबसे कम वृद्धि है।  
PunjabKesari
रिपोर्ट के अनुसार घरेलू मांग में कमी देखी गई है क्योंकि नवंबर में सरकार ने मुद्रा का 86 प्रतिशत वापस ले लिया था जिसका प्रत्यक्ष प्रभाव खर्च पर दिखा। फिच ने कहा कि अर्थव्यवस्था पर नोटबंदी का प्रभाव 'काफी परेशान' करने वाला है। यह आंशिक तौर पर अर्थव्यवस्था के बड़े असंगठित हिस्से के व्यय करने की चुनौतियों को प्रतिबिंबित करता है। उपभोग की वृद्धि दर भी 2016-17 की चौथी तिमाही में गिरकर 7.3 प्रतिशत रही जो 2015-16 की समान अवधि में 11.3 प्रतिशत थी।  


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You