यहां हर 5वें दिन एक नया आदमी बन रहा है अरबपति

  • यहां हर 5वें दिन एक नया आदमी बन रहा है अरबपति
You Are HereTop News
Saturday, October 15, 2016-7:15 PM

बीजिंगः एशिया में पहले हर सप्ताह एक नया व्यक्ति अरबपति बनता था लेकिन अब हर तीसरे दिन एक नया अरबपति पैदा हो रहा है। जो आंकड़ा पहले एशिया के लिए लागू होता था वो अब केवल चाइना का बन गया है। दरअसल पहले पूरे एशिया में हर सप्ताह एक नया अरबपति पैदा होता था लेकिन अब चीन में तेजी हुई है। प्राइस वॉटरहाउस कूपर्स की एक नई रिपोर्ट के मुताबिक हर तीसरे दिन ही एशिया में एक व्यक्ति अरबपति बन जाता है। इस मामले में एशिया बाकी दुनिया से बहुत आगे है।

रिपोर्ट के अनुसार पिछले साल एशिया के 71 प्रतिशत नए करोड़पति अकेले चीन में पैदा हुए जो साल 2009 के 35 प्रतिशत से दोगुने से भी ज्यादा है। पिछले दो दशकों में 1,300 से ज्यादा अरबपितयों से जुड़े आंकड़ों को जांचने के बाद यह रिपोर्ट तैयार की गई है। 

रिपोर्ट में कहा गया है कि पिछले साल अरबपति बनने वाले एशिया के 113 आंट्रप्रन्योर्स में 80 चीन से थे। यह आंकड़ा पिछले साल की अपेक्षा में आधे से ज्यादा है। पिछले सितंबर में चीनी सरकार ने इनोवेशन रिफॉर्म को प्राथमिकता दी थी और टेक कंपनियों के साथ मीटिंग में चीन के पीएम ने कहा था- 'आंट्रप्रन्योरशिप और इनोवेशन को बढ़ावा मिलने से देश के हर कोने से आए कॉलेज ग्रेजुएट्स को निष्पक्ष प्रतिस्पर्धा का अवसर प्राप्त होगा।' 

रिपोर्ट में इसे भी मेंशन किया गया है कि इनोवेशन रिफॉर्म चीन के युवा आंट्रप्रन्योर्स को तेजी से अमीर होने के अनुकूल माहौल बनाने में काफी मदद की। रिपोर्ट के अनुसार इन अरबपतियों में करीब-करीब आधे टेक्नॉलजी (19%), कन्ज्यूमर ऐंड रिटेल (15%) और रियल एस्टेट (15%) सेक्टर्स से हैं। ई-कॉमर्स की रफ्तार लगातार बढ़ रही है इसी दौरान चीन के कई अमीर लोग अपना मौजूदा व्यवसाय छोड़कर रियल एस्टेट बिजनेस में उतर गए।

दरअसल, चीन में शहरीकरण और उपभोग के सामानों पर खर्च में वृद्धि से ऐसा हुआ है जिसमें बिजनसेज तेजी से बढ़ते हैं।रिपोर्ट के मुताबिक हॉन्ग कॉन्ग और भारत एशिया के सबसे बड़े देश हैं जहां पिछले साल अरबतियों की सूची में 11-11 लोगों से बढ़ोतरी हुई।वहीं, यूरोप में 56 नए लोग अरबति बने अमरीका की बात की जाए तो वहां अरबपतियों की संख्या में बड़ा बदलाव नहीं आया। अमरीका में एक ओर 41 नए लोग अरबपति बने तो 36 पुराने अरबतियों की संपत्ति घट गई। 

पीडब्ल्यूसी में ग्लोबल प्राइवेट बैंकिंग ऐंड वेल्थ मैनेजमेंट के सीनियर एमडी स्टीवन क्रॉसबी ने कहा बाकी दुनिया और अमरीकी अरबतियों में एक खास अंतर है कि अमेरिकियों में अपनी संपत्ति दान करने की प्रवृति है।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You