लोगों की चाइनीज सामान को NO ,व्यापारियों का नुकसान! 

  • लोगों की चाइनीज सामान को NO ,व्यापारियों का नुकसान! 
You Are Herecompany
Wednesday, October 26, 2016-3:22 PM

नई दिल्लीः आतंकवाद पर पाकिस्तान का साथ देने पर चीनी सामान के बॉयकॉट की मुहिम तेजी से चल रही है। चीनी सामान को लेकर दुकानदारों ने भी कड़ा रुख अख्तियार कर लिया है और वो खुद भी चीन का सामान बेचने से गुरेज कर रहे हैं।
इस साल दिवाली पर बाजार में चाइनीज सामान की मांग घटी है। देशभर में चाइनीज सामान पर बैन की वजह से व्यापारी बेहद परेशान हैं क्योंकि चीन के सामान पर बैन लगने से व्यापारियों की दीवाली खराब हो सकती है।

व्यापारी संघ कंफेडेरेशन ऑफ़ आल इंडिया ट्रेडर्स (कैट) का कहना है सोशल मीडिया के अभियान के चलते बने माहौल के कारण खुदरा व्यापारियों और थोक व्यापारियों के बीच चीन के सामान की मांग में पिछले वर्ष के मुकाबले लगभग 45 की कमी आई है।
हालांकि राजधानी के थोक और रिटेल बाजारों से रुझान मिल रहा है कि जैसे-जैसे त्योहार करीब आ रहा है, सस्ती चीजों की डिमांड बढ़ रही है। दो-तीन महीने पहले ही स्टॉक मंगा चुके ट्रेडर आखिरी क्षणों में भी स्टॉक निकालने की कोशिश कर रहे हैं।

मंगलवार को कैट ने अपनी सर्वे रिपोर्ट के हवाले से दावा किया कि चीन से सामान मंगा चुके ट्रेडर्स को काफी नुकसान झेलना पड़ा है क्योंकि अब तक करीब आधा माल गोदामों में ही पड़ा है। हालांकि रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि असली तस्वीर अगले दो-तीन दिनों का शॉपिंग ट्रेंड देखने के बाद ही सामने आएगी। 

कैट के सेक्रटरी जनरल प्रवीण खंडेलवाल ने कहा, ‘राज्य इकाइयों से हमें जो आंकड़े मिल रहे हैं, उनसे पता चलता है कि पिछले दिनों पाकिस्तान के साथ तनाव और यूएन में चीन के भारत विरोधी रुख के बाद लोगों में चीन के प्रति नाराजगी बढ़ी है। लोग चीन को सबक सिखाने का एक जरिया उसके सामान के बहिष्कार में भी देख रहे हैं। हालांकि इससे माल मंगा चुके ट्रेडर्स को नुकसान हुआ है।व्यापारी संघ ने दावा किया है कि 45 फीसदी तक चीनी सामानों की मांग घटी है।

चाइनीज लड़ियों के इंपोर्टर ओ पी मित्तल ने बताया कि फिलहाल बाजार में आने वाला ग्राहक सिर्फ कीमत देख रहा है, न कि इंडियन और चाइनीज। होलसेल हब भगीरथ पैलेस में दिल्ली इलेक्ट्रिकल ट्रेडर्स असोसिएशन के पूर्व प्रेजिडेंट बी के जिंदल ने कहा, ‘एंटी-चाइना माहौल बना तो है, लेकिन सेल्स घटने के पीछे और कारण भी हैं। देसी सामान की बिक्री में भी कोई उछाल नजर नहीं आ रहा।’  अगले एक-दो दिनों में रिटेल में जो लूट मचेगी, उससे थोक विक्रेताओं का बाकी भंडार भी निकल जाएगा क्योंकि थोक बाजार में स्टॉक निकालने के लिए ट्रेडर भारी छूट भी दे रहे हैं।

मोमबत्तियों के प्रमुख ब्रैंड प्रकाश कैंडल्स के प्रमुख पल्लव गुप्ता ने बताया, ‘पिछले साल के मुकाबले मोमबत्तियों की बिक्री 30% घटी है। ऐसा तब है, जब पैराफिन वैक्स की कीमत घटी है और मोमबत्ती के दाम में कोई इजाफा नहीं हुआ है।’ उन्होंने बताया कि एंटी-चाइना कैंपेन के चलते कैंडल्स की बिक्री बढ़ने की उम्मीद थी, लेकिन ऐसा कुछ नहीं हुआ।


वीडियो देखने के लिए क्लिक करें


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You