अब सोशल मीडिया के लिए भी होगी इंश्योरेंस पॉलिसी!

  • अब सोशल मीडिया के लिए भी होगी इंश्योरेंस पॉलिसी!
You Are HereEconomy
Monday, October 17, 2016-1:24 PM

मुंबई: अक्सर लोग फेसबुक या ट्विटर जैसी सोशल मीडिया साइट्स पर कई तरह के कमेंट्स करते हैं लेकिन कुछ लोग ऐसे भी होते हैं जो सोशल साइट्स पर अपनी भावनाएं व्यक्त करने से डरते हैं ताकि उन पर कोई मानहानि का मुकद्दमा कर मुआवजे में बड़ी धनराशि न मांग ले? अब आपको डरने की जरूरत नहीं क्योंकि बजाज आलियांस की तरफ से एक इंश्योरेंस पॉलिसी तैयार की गई है जो सोशल मीडिया पर किसी भी ऐक्टिविटी से उठने वाली थर्ड पार्टी लायबिलिटी को कवर करेगी। 

बजाज आलियांस जनरल इंश्योरेंस के मैनेजिंग डायरेक्टर तपन सिंघल ने कहा, 'व्यक्तिगत साइबर इंश्योरेंस पॉलिसी की बाजार में बढ़ती मांग को देखते हुए ही कंपनी की ओर से व्यक्तिगत साइबर कवर पॉलिसी भी तैयार की जा रही है जो बिजनैस के लिए तैयार की गई वर्तमान इंश्योरेंस कवर जैसा ही होगा। जो लोगों की प्रतिष्ठा, डेटा और निजी, वित्तीय और संवेदनशील जानकारी चुराए जाने की स्थिति में कवर देगी। 

सिंघल ने कहा कि बढ़ते इंटरनैट यूजर्स और ऑनलाइन ट्रान्जैक्शन के कारण निजी जानकारियां सोशल मीडिया और ई-कॉमर्स साइटों पर उपलब्ध हैं। व्यक्तिगत साइबर इंश्योरेंस इन रिस्कों में कवर देगी-फिशिंग, आइडेंटिटी थेफ्ट, साइबर स्टॉकिंग, उत्पीडऩ और बैंक अकाउंट हैकिंग।

अगर कोई सोशल मीडिया वैबसाइट पर की गई किसी पोस्ट या कन्वर्सेशन के कारण मुकद्दमे का सामना करता है और उसे हर्जाना देने की कोई जरूरत नहीं है क्योंकि अब साइबर इंश्योरेंस पॉलिसी प्रॉडक्ट पूरे हर्जाने को भुगतान करेगा। 

वर्तमान में, ज्यादातर साइबर इंश्योरेंस प्रॉडक्ट आईटी फर्म, बैंक, ई-कॉमर्स और फार्मास्युटिकल कंपनियों को बेचे जाते हैं। यह कॉर्पोरेट्स को निजता और डेटा चोरी, नैटवर्क सिक्यॉरिटी क्लेम और मीडिया लायबिलिटी पर कवर देती हैं। भारत में यह प्रॉडक्ट पिछले 3 साल से उपलब्ध है और इनको खरीदने वाले कॉर्पोरेट्स की संख्या में इजाफा हो रहा है। एक अनुमान के अनुसार, इंश्योरेंस कंपनियों का मानना है कि आने वाले 3 सालों में लाइबिलिटी मार्कीट में इंश्योरेंस लाइबिलिटी के शेयरों में और इजाफा होगा क्योंकि भारत में इस समय लगभग 500 ऐक्टिव साइबर कवर पॉलिसी हैं। साइबर इंश्योरेंस का मार्कीट लगभग 1,000 करोड़ रुपए का है और यह लायबिलिटी मार्कीट का लगभग 7 से 10 फीसदी है।
 


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You