किसानों को गेहूं बुवाई पर एमएसपी घोषणा का इंतजार

  • किसानों को गेहूं बुवाई पर एमएसपी घोषणा का इंतजार
You Are Hereagriculture
Saturday, November 12, 2016-11:34 AM

नई दिल्ली: गेहूं की बुवाई का रकबा एक साल पहले की तुलना में इस समय 38 प्रतिशत उपर चल रहा है। सरकारी आकड़ों के मुताबिक अब तक 25.72 लाख हेक्टेयर में गेहूं बोया जा चुका है जबकि किसानों को इसके न्यूनतम समर्थन मूल्य (एम.एस.पी.) की घोषणा का इंतजार है।

गेहूं एक प्रमुख रबी फसल है, जिसकी बुवाई अक्तूबर से शुरू होती है और कटाई अप्रैल में शुरू होती है। सरकार के ताजे आंकड़ों के अनुसार रबी सत्र में अभी तक गेहूं की बुवाई 25.72 लाख हेक्टेयर में की गई है जो बुवाई का रकबा पूर्व वर्ष की समान अवधि में 18.65 लाख हेक्टेयर ही था। गेहूं की अधिक बुवाई होने की खबर राजस्थान, हिमाचल प्रदेश, उत्तराखंड और गुजरात से प्राप्त हुई है।

समीक्षाधीन अवधि में धान की बुवाई का रकबा 6.46 लाख हेक्टेयर से बढ़कर 9.68 लाख हेक्टेयर हो गया जबकि दलहन बुवाई का रकबा पहले के 37.23 लाख हेक्टेयर से बढ़कर 49.24 लाख हेक्टेयर हो गया है। तिलहन बुवाई का रकबा पहले के 31.11 लाख हेक्टेयर से बढ़कर अब तक 42.03 लाख हेक्टेयर हो गया है। हालांकि मोटे अनाज की बुवाई का रकबा पहले के 33.26 लाख हेक्टेयर से घटकर 20.17 लाख हेक्टेयर रह गया है।

रबी फसलों की बुवाई का रकबा चालू रबी सत्र में अभी तक बढ़कर 146.85 लाख हेक्टेयर हो गया जो पूर्व वर्ष की समान अवधि में 126.71 लाख हेक्टेयर था। किसानों को सरकार की आेर से न्यूनतम समर्थन मूल्य (एम.एस.पी.) घोषणा किए जाने का इंतजार है ताकि वे इस बात का फैसला ले सकें कि इस रबी सत्र में वे कौन से रबी फसल बोएं। 


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You