गारमैंट निर्यात गिरकर पहुंचा 6700 करोड़ पर

  • गारमैंट निर्यात गिरकर पहुंचा 6700 करोड़ पर
You Are HereBusiness
Saturday, January 06, 2018-9:18 AM

लुधियानाः केंद्र के मिनिस्ट्री ऑफ कॉमर्स विभाग ने गारमैंट निर्यातकों को स्पष्ट कर दिया है कि केंद्रीय बजट के बाद ही रिवेट ऑफ स्टेट लेविस इंसैंटिव (रोसल) देने बारे सोचा जाएगा। पिछले 6 माह से निर्यातकों का इंसैंटिव सरकार ने रोक रखा है, जिस कारण गारमैंट निर्यात 8 माह में 11 हजार करोड़ रुपए से गिरकर 6700 करोड़ पर आ गया है।

निर्यातकों की हालत खस्ता 
पूछने पर बताया जाता है कि केंद्रीय बजट के बाद ही रोसल इंसैंटिव देने बारे सोचा जाएगा। एक तो वैसे ही केंद्र सरकार ने रोसल इंसैंटिव की 3.90 प्रतिशत की दर को घटाकर 1.67 फीसदी कर दिया है और ऊपर से ड्यूटी ड्रा बैक भी घटाकर 7.7 प्रतिशत से घटाकर 2 फीसदी कर देने से निर्यातकों की हालत खस्ता हो गई। इसी कारण विश्व बाजार में गारमैंट निर्यात की मांग भी कम हो गई है।
PunjabKesari
गारमैंट इंडस्ट्री निर्यात बंद करने की कर रही है तैयारी
निटवियर अपे्रल एक्सपोर्ट्स आर्गेनाइजेशन के प्रधान हरीश दुआ कहते हैं कि अगर रोसल इंसैंटिव नहीं मिला तो उद्यमियों को मजबूरन गारमैंट निर्यात पर पूरी तरह रोक लगानी पड़ेगी। फिलहाल 8 माह में निर्यात सीधा 11,272 करोड़ रुपए से गिरकर 6,719 करोड़ पर आ गया है। उन्होंने कहा कि वह 35 करोड़ का निर्यात करते थे जो इस साल गिरकर 25 करोड़ पर आ गया है। इंसैंटिव की दर कम होने उत्पादन लागत बढ़ गई है, जिस कारण विश्व बाजार में माल बेचना भी मुश्किल हो गया है। सरकार को इस बारे गंभीरता से सोचना होगा।

अपना सही जीवनसंगी चुनिए| केवल भारत मैट्रिमोनी पर- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन

Recommended For You