भारत की जी.डी.पी. वृद्धि दर 7.1 प्रतिशत रहने की संभावना

  • भारत की जी.डी.पी. वृद्धि दर 7.1 प्रतिशत रहने की संभावना
You Are HereBusiness
Wednesday, September 13, 2017-7:15 PM

नई दिल्ली : जापानी वित्तीय सेवा प्रदाता कंपनी नोमूरा ने एक रिपोर्ट में कहा है कि मौजूदा वित्त वर्ष में भारत की जी.डी.पी. वृद्धि दर 7.1 प्रतिशत रहना अनुमानित है। फर्म का मानना है कि विशेषकर त्यौहारी सीजन से पहले फर्मों द्वारा फिर से माल तैयार करने से औद्योगिक उत्पादन में तेजी आने की उम्मीद है। फर्म का मानना है कि इससे आने वाली तिमाहियों में औद्योगिक उत्पादन की वृद्धि तेज रहेगी।

रिपोर्ट के अनुसार माल व सेवा कर (जी.एस.टी.) के कार्यान्वयन से उपभोक्ताओं ने खरीदारी टाल दी जिसके बीच फर्मों ने माल निकालने पर जोर दिया। नोमूरा का मानना है कि नए नोट चलन में लाने के मौजूदा प्रयासों का नकदी आधारित सेवा क्षेत्र पर सकारात्मक असर होगा और इससे वृद्धि दर मजबूत होगी। इसके अनुसार, ‘‘कुल मिलाकर हमारा मानना है कि 2017-18 में जी.डी.पी. वृद्धि दर 7.1 प्रतिशत व जी.वी.ए. वृद्धि 6.7 प्रतिशत रहेगी।’’   

अगस्त में म्यूचुअल फंड में हुआ 62 हजार करोड़ का निवेश    
निवेशकों ने अगस्त महीने में म्यूचुअल फंड की विभिन्न योजनाओं में करीब 62 हजार करोड़ रुपए निवेश किए हैं। एसोसिएशन ऑफ म्यूचुअल फंड्स इन इंडिया द्वारा जारी आंकड़ों के अनुसार, इसके साथ चालू वित्त वर्ष के पहले 5 महीनों में म्यूचुअल फंड योजनाओं में कुल निवेश बढ़ कर 2.2 लाख करोड़ रुपए पर पहुंच गया है।

आंकड़ों के अनुसार, अगस्त में म्यूचुअल फंड योजनाओं में निवेशकों ने कुल 61,701 करोड़ रुपए का निवेश किया है। जुलाई में यह निवेश 63,504 करोड़ रुपए रहा था। निवेश में हुई तेजी में लिक्विड फंड एंड मनी मार्कीट फंड का योगदान रहा है। इसके अलावा इक्विटी योजनाओं में निवेशकों की दिलचस्पी बनी रही। 

यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!

Recommended For You