Subscribe Now!

GST से आपको मिलेगी थोडी़ राहत, वित्त मंत्रालय ने किया ये फैसला

You Are HereBusiness
Sunday, July 16, 2017-11:39 AM

नई दिल्ली: अब पुराने सामानों की बिक्री के बिजनेस से जुड़े डीलर भी जीएसटी के दायरे में आएंगे। सरकार ने कहा कि गुड्स एंड सर्विसेस टैक्स (जीएसटी) में यदि परचेज प्राइस की तुलना में कम कीमत पर सामान बेचा और खरीदा जाता है तो उस पर जीएसटी नहीं लगेगा। इससे साफ है कि पुराना सामान अगर ज्यादा कीमत पर बेचा गया तो उस पर जी.एस.टी. चुकाना होगा।

हाल में इस पर सवाल उठ रहे थे कि जी.एस.टी.के दायरे में आने वाली मार्जिन स्कीम सेकंड हैंड यानी पुराने सामान के बिजनेस से जुड़े डीलर्स पर लागू होगी या नहीं। इसके बाद ही फाइनेंस मिनिस्ट्री ने यह सफाई जारी की है।  जी.एस.टी. के तहत पुराने सामान के डीलरों और इस्तेमाल की जा चुकी बोतलों के कारोबारियों के लिए शुरू की गई मार्जिन स्कीम को लेकर आशंकाएं जताई जा रही हैं।
PunjabKesari
प्रॉफिट पर लगेगा जी.एस.टी.  
पुराने सामान में बदलाव नहीं करने वाली कुछ चीजों जिनके लिए इनपुट क्रेडिट नहीं दिया जाएगा, उन पर सिर्फ गुड्स के परचेज प्राइस और सेलिंग प्राइस में अंतर पर जी.एस.टी. लगेगा। यदि यह अंतर निगेटिव है यानी यदि सेलिंग प्राइस, परचेज प्राइस से कम है तो इसकी अनदेखी की जा सकती है और यही मार्जिन स्कीम है।
PunjabKesari
डबल टैक्सेशन से बचाने के लिए पहल  
मिनिस्ट्री ने कहा कि सेंट्रल टैक्स रेट के संबंध में जारी नोटिफिकेशन में ऐसे रजिस्टर्ड लोगों को सेंट्रल टैक्स छूट दी गई है जो गैर रजिस्टर्ड लोगों से पुराने गुड्स की खरीद और बिक्री का बिजनेस करता है और इन गुड्स की आउटवर्ड सप्लाई पर सेंट्रल टैक्स चुकाता है। फाइनेंस मिनिस्ट्री के मुताबिक, रजिस्टर्ड लोगों को गुड्स की सप्लाई पर डबल टैक्सेशन से बचाना है, क्योंकि मार्जिन स्कीम के तहत काम करने वालों को सेकंड हैंड गुड्स की खरीद पर इनपुट टैक्स क्रेडिट का फायदा नहीं मिलता।

जी.एस.टी. के दायरे में आएंगी लीगल सर्विसेस  
टैक्स डिपार्टमेंट ने साफ किया कि एडवोकेट्स द्वारा दी जाने वाली लीगल सर्विसेस जी.एस.टी. के दायरे में आएंगी, लेकिन इस टैक्स की देनदारी क्लाइंट की ही होगी।

अपना सही जीवनसंगी चुनिए| केवल भारत मैट्रिमोनी पर- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन

Recommended For You