नोटबंदी का असर सैर-सपाटे पर

  • नोटबंदी का असर सैर-सपाटे पर
You Are HereEconomy
Monday, November 21, 2016-4:17 PM

नई दिल्लीः बड़े नोटों को बंद करने के सरकार के फैसले का असर टूर ऑपरेटरों के कारोबार पर भी पड़ने लगा है। नोटबंदी के बाद लोग गर्मियों की छुट्टियों के लिए अग्रिम बुकिंग की योजना फिलहाल टाल रहे हैं। ऑपरेटरों का मानना है कि सरकार के इस फैसले के बाद लोग संगठित टूर ऑपरेटरों से बुकिंग करवाने के लिए ऑनलाइन भुगतान और ई.एम.आई. के जरिए भुगतान के लिए भी प्रोत्साहित हो सकते हैं।

संगठित क्षेत्र के बड़े टूर ऑपरेटर थॉमस कुक इंडिया के प्रमुख माधवन मेनन के मुताबिक सरकार के इस फैसले का असर सर्दियों की बुकिंग पर नहीं पड़ने वाला है क्योंकि लोग अपनी छुट्टियों की योजना कई महीने पहले ही बना लेते हैं और उनकी बुकिंग भी अब तक हो चुकी रहती है। लेकिन अगली गर्मियों के मौसम में छुट्टियां मनाने की सोच रहे लोगों ने बड़े नोट बंद होने और नए नोटों की कम उपलब्धता को देखते हुए गर्मियों की बुकिंग की योजना फिलहाल स्थगित कर दी है।

गत जून में कंपनी ने उम्मीद जताई थी कि विदेश जाने वाले लोगों की संख्या में इस बार बढ़ोतरी होगी। उसकी बुकिंग में खासी तेजी दिख रही थी लेकिन पिछले हफ्ते अचानक 500 और 1000 रुपए के बड़े नोटों को बंद करने के ऐलान से थॉमस कुक की बुकिंग पर असर आने लगा है। मेनन ने कहा, 'नोटबंदी के फैसले के बाद अर्थव्यवस्था में कई तरह के बदलाव देखने को मिलेंगे। इसके चलते लोग छुट्टियों के लिए विदेश जाने के फैसले को स्थगित कर देंगे।हमारी बुकिंग पर भी इसका असर पड़ेगा।' हालांकि उनका मानना है कि इस फैसले के असर के बारे में अभी कुछ कहना जल्दबाजी होगी।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You