मार्च के बाद सोने की तस्करी में हुआ इजाफा!

  • मार्च के बाद सोने की तस्करी में हुआ इजाफा!
You Are HereBusiness
Saturday, May 20, 2017-5:16 PM

नई दिल्ली: नोटबंदी के चलते नकदी की किल्लत होने से सोने की तस्करी भी काफी कम हो गई थी लेकिन धीरे-धीरे नकदी की उपलब्धता यानि कि कैश फ्लो बढऩे से इस कीमती धातु की तस्करी दोबारा बढ़ गई है। कीमती धातु कारोबार की विश्लेषण संस्था जी.एफ .एम.एस. का कहना है कि 8 नवम्बर, 2016 को नोटबंदी का ऐलान होने के बाद से ही सोने की तस्करी काफी कम हो गई थी। बाजार में नकदी की पर्याप्त उपलब्धता नहीं होने से तस्करी में गिरावट का यह दौर इस साल मार्च के मध्य तक जारी रहा। इसी का नतीजा था कि जनवरी-मार्च, 2017 के दौरान तस्करी के जरिए देश में लाए जाने वाले सोने की मात्रा 1.3 टन प्रति सप्ताह पर आ गई थी। लेकिन चालू वित्त वर्ष की पहली तिमाही में सोने की तस्करी के एक बार फिर रफ्तार पकड़ते हुए 1.9 टन प्रति सप्ताह रहने का अनुमान है।

इसका सीधा मतलब यही है कि हर महीने करीब 8-10 टन सोना गैर कानूनी तरीके से देश के भीतर पहुंच रहा है। यह सिलसिला अब भी थमा नहीं है। बाजार का विश्लेषण करने से पता चलता है कि दिसम्बर में हवाला कारोबारी तस्करी के लिए जरूरी डॉलर मुहैया करवाने के एवज में 5-6 प्रतिशत से लेकर 6 प्रतिशत प्रीमियम मांग रहे थे लेकिन अब वह भी घटकर करीब 3 प्रतिशत पर आ गया है। डॉलर पर देने वाले प्रीमियम में कटौती होने से सोने की तस्करी और भी आकर्षक हो गई है। स्वर्ण कारोबार से जुड़े एक सूत्र ने कहा कि जब बाजार में भुगतान भी अधिक हो रहा था तब भी प्रवाह बना हुआ था। दरअसल तस्कर अपने ही बनाए सिलसिले को बनाए रखना चाहते थे।

आयात शुल्क बढ़ौतरी भी न रोक पाई तस्करी को
हालांकि सोने की तस्करी उसी समय से बढ़त पर है जब सरकार ने सोने के आयात को हतोत्साहित करने के लिए इस पर आयात शुल्क बढ़ाने का फैसला किया था। वर्ष 2013 में सोने पर आयात शुल्क को बढ़ाकर 10 प्रतिशत कर दिया गया था। उस फैसले ने सोने की तस्करी को इस तरह से बढ़ाया कि अगले 3 साल तक 150 टन से लेकर करीब 200 टन तक सोना हरेक साल गैर कानूनी तरीके से देश के भीतर आता रहा। लेकिन नोटबंदी ने डॉलर पर लगने वाले हवाला प्रीमियम को बढ़ा दिया था जिससे सोने की तस्करी के लिए जरूरी डॉलर मिलने कम हो गए। उस समय अवैध कारोबार में भी डॉलर मिल पाना खासा मुश्किल हो गया था। 

जनवरी-मार्च 2016 में सोने की खपत घटी
जी.एफ .एम.एस. ने भारतीय रिजर्व बैंक के आंकड़ों का हवाला देते हुए कहा है कि जनवरी के बाद से आम लोगों के पास नकदी की उपलब्धता लगातार बढ़ती चली गई है। अप्रैल महीने में तो बैंकों में जमा धन से भी अधिक नकदी लोगों के पास थी। जी.एफ .एम.एस. ने मार्च तिमाही के लिए जारी अपनी रिपोर्ट में भी कहा था कि इस दौरान भारत में आभूषण की खपत एक साल पहले की तुलना में 46 प्रतिशत तक बढ़कर 107 टन पर पहुंच गई। देश के कुछ राज्यों के सूखे की चपेट में आने से जनवरी-मार्च 2016 में सोने की खपत घट गई थी। पिछली तिमाही में सोने की तुलनात्मक खपत बढने के बावजूद मात्रा के हिसाब से यह पिछले 10 वर्षों के औसत से कम ही रही।

जी.एस.टी. से पहले जमाखोरी शुरु कि कारोबारियों ने
वस्तु एवं सेवा कर (जी.एस.टी.) जुलाई महीने से देश भर में लागू होने वाला है और उसे ध्यान में रखते हुए स्वर्ण कारोबारियों ने पहले से ही सोने की जमाखोरी करनी शुरू कर दी है। सुधीश कहते हैंए श्साल के दूसरे हिस्से में स्वर्ण आयात काफी हद तक आम उपभोक्ताओं की मांग पर निर्भर करेगा। उस समय खुदरा जमाखोरी से ज्यादा फर्क नहीं पड़ेगा। जून के तीसरे हफ्ते से सोने के आयात में गिरावट आ सकती है


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You