"भारत-इस्राइल व्यापार बढ़ाने की व्यापक संभावनाएं"

You Are HereEconomy
Thursday, November 17, 2016-3:27 PM

नई दिल्ली: भारत और इस्राइल के बीच कृषि और औषधि जैसे क्षेत्रों में द्विपक्षीय व्यापार बढ़ाने की व्यापक संभावनाएं मौजूद हैं। एक शीर्ष सरकारी अधिकारी वाणिज्य सचिव रीता तेवतिया ने आज कहा, ‘‘हमारी द्विपक्षीय व्यापार करीब 5 अरब डॉलर है। दोनों अर्थव्यवस्थाआें में व्याप्त संभावनाआें और पूरक क्षमताआें को देखते हुए हम जो सोचते हैं उससे यह काफी कम है।’’

तेवतिया यहां भारत-इस्राइल व्यावसायिक फोरम की बैठक में बोल रहे थे। इसका आयोजन फिक्की ने किया था। उन्होंने कहा कि दोनों पक्षों के व्यावसायियों को सौर उर्जा, कृषि, सिंचाई और औषधि क्षेत्र में गठबंधन पर गौर करना चाहिए। उन्होंने कहा कि भारत काफी स्वस्थ्य दर के साथ आगे बढ़ रहा है। सरकार देश में कारोबारी माहौल, व्यापार सुगमता, लाजिस्टिक्स और कराधान ढांचे को बेहतर बनाने के लिए अनेक कदम उठा रही है। उन्होंने कहा कि सेवा और रक्षा क्षेत्रों में सहयोग के व्यापक अवसर हैं।

इस्राइल से निवेश आमंत्रित करते हुए सचिव ने कहा कि भारत ने प्रत्यक्ष विदेशी निवेश नीति में नियमों को काफी सरल किया है। भारत में अप्रैल 2000 से सितंबर 2016 के बीच इजरायल से कुल 10.70 करोड़ डॉलर का एफ.डी.आई. प्राप्त हुआ है।   उन्होंने कहा कि कराधान के क्षेत्र में जी.एस.टी. एक प्रमुख कदम है जो कि निवेशकों को सरल बाजार उपलब्ध कराएगा। उन्होंने कहा, ‘‘व्यापार समझौते हमेशा से ही उल्लेखनीय रहते हैं और हम और ज्यादा जुडऩे के लिए तैयार हैं।’’ साथ ही कहा कि सिंचाई और जल प्रबंधन काफी महत्वपूर्ण क्षेत्र हैं जहां भारत इजरायल की विशेषज्ञता को इस्तेमाल में ला सकता है। 


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You