Live: GST पर चर्चा, जानें क्या हुआ महंगा और सस्ता?

You Are HereBusiness
Saturday, May 20, 2017-11:22 AM

नई दिल्लीः गुड्स एंड सर्विसेस टैक्‍स (जी.एस.टी.) काऊंसिल की मीटिंग के दूसरे दिन शुक्रवार को सर्विसेज पर टैक्स रेट तय कर दिए हैं। जी.एस.टी. के नए रेट के मुताबिक बैंक, इंश्योरेंस, होटल सर्विस, टैलीकॉम सर्विस महंगी हो जाएगी। होटल इंडस्ट्री के लिए रूम रेट के हिसाब से टैक्स स्लैब बनाया गया है। इसके तहत सर्विस टैक्स और लग्जरी टैक्स को जोड़ दिया है। 1 जुलाई के बाद आपका मोबाइल बिल भी पहले से ज्यादा आएगा, क्योंकि इस पर टैक्स बढ़ा दिया है। 

मूवी टिकट हो जाएंगी महंगी
अब लोगों के लिए मूवी देखना महंगा और सस्ता हो जाएगा। यह हर राज्य में अलग हो सकता है। राज्यों में एंटरटेनमेंट टैक्स 10 से 50 फीसदी के बीच है जो जी.एस.टी. में 28 फीसदी कर दिया गया है यानी अब दिल्ली, मुंबई, बिहार जैसे राज्यों में जहां एंटरटेनमेंट टैक्स ज्यादा है, वहां फिल्म देखना सस्ता हो जाएगा। जहां एंटरटेनमेंट टैक्स कम है, उनके लिए मूवी देखना महंगा हो जाएगा।

क्या है GST
अभी भी कई लोगों को इस बारे जानकारी नहीं तो आपके बता दें GST का मतलब गुड्स एंड सर्विसेज टैक्‍स है। इसको केंद्र और राज्‍यों के 17 से ज्‍यादा इनडायरेक्‍ट टैक्‍स के बदले में लागू किया जाएगा। यह देशभर में किसी भी गुड्स या सर्विसेज की मैन्‍युफैक्‍चरिंग, बिक्री और इस्‍तेमाल पर लागू होगा। सरल शब्‍दों में कहें ताे जी.एस.टी. पूरे देश के लिए इनडायरेक्‍ट टैक्‍स है, जो भारत को एक समान बाजार बनाएगा। जी.एस.टी. लागू होने पर सभी राज्यों में लगभग सभी गुड्स एक ही कीमत पर मिलेंगे। अभी एक ही चीज के लिए दो राज्यों में अलग-अलग कीमत चुकानी पड़ती हैं। इसकी वजह अलग-अलग राज्यों में लगने वाले टैक्स हैं। इसके लागू होने के बाद देश बहुत हद तक सिंगल मार्केट बन जाएगा।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You