मोदी सरकार के एक फैसले से LIC ने गंवाए 7000 करोड़ रुपए

  • मोदी सरकार के एक फैसले से LIC ने गंवाए 7000 करोड़ रुपए
You Are HereBusiness
Tuesday, July 18, 2017-2:00 PM

नई दिल्लीः जी.एस.टी. काउंसिल की तरफ से सोमवार को सिगरेट पर सेस बढ़ाने के बाद आई.टी.सी. के शेयरों में आज 11 फीसदी से ज्यादा की गिरावट आई है। आई.टी.सी. के शेयरों में आई गिरावट से कंपनी का मार्कीट कैप 45,000 करोड़ रुपए से ज्यादा नीचे चला गया है यानी निवेशकों की इतनी रकम का नुकसान हुआ है।

LIC को 7,000 करोड़ का नुकसान
आई.टी.सी. के शेयरों में आई तेज गिरावट का सबसे ज्यादा नुकसान इसके सबसे बड़े शेयरधारक लाइफ इंश्योरेंस कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया (एल.आई.सी.) को झेलना पड़ा है। एल.आई.सी. को महज 30 मिनट में ही 7,000 करोड़ रुपए से ज्यादा का नुकसान झेलना पड़ा है। 30 जून 2017 तक के आंकड़ों के मुताबिक, आई.टी.सी. में एल.आई.सी. की 16.29 फीसदी हिस्सेदारी है। वहीं, घरेलू इंश्योरेंस कंपनियों को करीब 10,000 करोड़ गंवाने पड़े हैं।

GST काउंसिल में लिया गया फैसला
सरकार ने सोमवार और मंगलवार की दरम्यानी रात से सिगरेट पर जी.एस.टी. की दरों में बढ़ौतरी कर दी है। वित्त मंत्री अरुण जेतली की अध्यक्षता में सोमवार को जी.एस.टी. काउंसिल की हुई 19वीं बैठक में इस आशय का निर्णय लिया गया। काउंसिल की बैठक समाप्त होने के बाद जेतली ने बताया कि सिगरेट पर जी.एस.टी. की दर 28 फीसदी रहेगी। सिर्फ कंपनसेशन सेस में बढ़ौतरी की जा रही है जिससे 5 हजार करोड़ रुपए की कर वसूली बढ़ेगी।

विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You