नोट बंद करने से सिर्फ आम आदमी प्रभावित: चिंदबरम

  • नोट बंद करने से सिर्फ आम आदमी प्रभावित: चिंदबरम
You Are HereTop News
Saturday, November 12, 2016-4:05 PM

चेन्नईः पूर्व वित्त मंत्री पी. चिदंबरम ने आज कहा कि सरकार के ऊंचे मूल्य के नोटों को बंद करने से कालेधन पर अंकुश लगने का दावा बेमानी है बल्कि इससे आम आदमी ही प्रभावित होगा। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता चिदंबरम ने कहा कि लोगों को दवा खरीदने, बस और ट्रेन का टिकट खरीदने में और ऑटोरिक्शा का भाड़ा देने में परेशानी हो रही है क्योंकि अब तक चलन में रहे 500 और 1000 के नोट अचानक से बंद कर दिए गए हैं।  उन्होंने कहा, ‘‘वे (सरकार) कहते हैं कि बंद किए गए नोटों से जो ज्यादा मात्रा में चलन में थे, आम लोगों को कोई परेशानी नहीं होगी। यह अपने आप में एक मजाकिया बयान है।’’

यहां पत्रकारों से बातचीत में चिदंबरम ने कहा, ‘‘यह कालेधन को कम करने के लिए उठाया कदम नहीं है। मेरी नजर में केंद्र सरकार के इस कदम से सिर्फ आम लोगों को परेशानी होगी।’’ उन्होंने कहा 2012 में केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड ने सरकार को 2000 के नोट नहीं जारी करने की सलाह दी थी। बोर्ड का कहना था कि इससे आम लोगों को फायदे के बजाय नुकसान ज्यादा होगा। चिदंबरम ने कहा, ‘‘इस सलाह को किनारे रखते हुए सरकार ने 500 और 1000 के पुराने नोटों का चलन बंद कर दिया जो बड़ी मात्रा में बाजार में चलन में थे।’’ 


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You