सितंबर में पामतेल का आयात मामूली घटकर 7.73 लाख टन

  • सितंबर में पामतेल का आयात मामूली घटकर 7.73 लाख टन
You Are Hereagriculture
Saturday, October 15, 2016-4:04 PM

नई दिल्ली: इस वर्ष सितंबर में पामतेल का आयात मामूली घटकर 7.73,497 लाख टन रह गया लेकिन रिफाइंड पाम तेल की बढ़ती आयात की खेप घरेलू रिफाइनिंग कंपनियों को प्रभावित कर रही हैं। घरेलू उद्योग संगठन साल्वेंट एक्सट्रेक्टर्स एसोसिएशन (एसईए) ने आज यह जानकारी दी है।  

दुनिया के प्रमुख वनस्पति तेल के खरीदार देश, भारत ने सितंबर 2015 में 7,83,734 टन पाम तेल का आयात किया था। देश में होने वाले कुल वनस्पति तेल के आयात में पाम तेल की हिस्सेदारी 57 प्रतिशत की होती है। बाद में आरबीडी पामोलीन तेल के आयात में भारी वृद्धि हुई है। एसईए ने एक बयान में कहा, ‘‘आगामी महीनों में आरबीडी पामोलीन तेल के आयात में और वृद्धि होने की उम्मीद है। आरबीडी पामोलीन तेल के आयात में चेतावनी भरी वृद्धि घरेलू रिफाइनिंग उद्योग को गंभीरता से प्रभावित कर रही है।’’ इसमें कहा गया है कि अधिक मात्रा में आरबीडी पामोलीन तेल का आयात किया जा रहा है क्योंकि रिफाइंड तेल की यहां लाने की लागत कच्चे पाम तेल (सीपीआे) के बराबर ही है। 

रिफाइंड पामोलीन तेल का आयात कहीं सस्ता बैठता है क्योंकि इंडोनेशिया: मलेशिया द्वारा इस पर लगाया गया निर्यात कर सीपीआे के मुकाबले कहीं अधिक है। इस स्थिति से निपटने के लिए एसईए की मांग है कि सरकार रिफाइंड और कच्चे खाद्य तेल के बीच के शुल्क अंतर को मौजूदा 7.5 प्रतिशत से बढ़ाकर 15 प्रतिशत कर दे।  

पाम तेल उत्पादों में से आरबीडी पामोलीन तेल का आयात सितंबर 2016 में बढ़कर 2,05,087 टन का हो गया जो वर्ष भर पूर्व की समान अवधि में 1,73,410 टन था।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You