RBI: 2000 के 3.5 अरब नोट छपे, बाजार में आएंगे 7 लाख करोड़

  • RBI: 2000 के 3.5 अरब नोट छपे, बाजार में आएंगे 7 लाख करोड़
You Are Herebanking
Thursday, November 10, 2016-5:12 PM

नई दिल्लीः प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को 500 रुपए और 1000 रुपए के नोटों का बंद करने का एेलान किया लेकिन इससे पहले ही रिजर्व बैंक ने पूरी तैयारी कर ली थी। नोटों को बंद करने की योजना 6 महीने पहले बनी थी। तीन महीने पहले से 500 और 2000 रुपए के नए नोटों की छपाई शुरू हो गई थी। रिजर्व बैंक ने 2000 रुपए के 3.5 अरब नोट छापे यानि इसका कुल मूल्य 7 लाख करोड़ रुपए है। मंगलवार को ही सभी बैंकों के मुद्रा प्रबंधन डिवीजन को सीलबंद बक्से दिए गए थे जिसमें नए नोटों की गड्डी थी।

सभी बैंकों के मुद्रा प्रबंधन डिवीजन के प्रमुखों को सोमवार को भारतीय रिजर्व बैंक यानी आरबीआई से गोपनीय संदेश आया, जिसमें उन्हें मंगलवार को मुख्यालय में मौजूद रहने को कहा गया। अगले दिन सुबह उन्हें सीलबंद बक्से दिए गए। कहा गया कि इसमें दो हजार के नए नोट हैं। सभी प्रमुखों को निर्देश दिया गया कि वे इस संबंध में किसी से बात न करें और आर.बी.आई. के अगले आदेश के बाद ही इन बक्सों को खोलें। मंगलवार शाम जब सरकार ने 1000 और 500 के नोट पर पाबंदी का सार्वजनिक ऐलान किया। तभी पता चला कि इन बक्सों में दो हजार के अलावा 500 के भी नए नोट हैं। साफतौर पर वित्तीय क्षेत्र में यहां तक की बैंकों के चेयरमैन के लिए भी यह चौंकाने वाला फैसला था।

हालांकि 2000 रुपए के नए नोटों की छपाई की सूचना में गोपनियता बरतने के बावजूद लीक हो गई। दो हजार के नोट छपने की सूचना कुछ दिनों पहले हैदराबाद के मुद्रा छपाईखाने से लीक हुई थी। इसके बावजूद कोई भी यह पूर्वानुमान नहीं लगा पाया कि सरकार नोटों पर पाबंदी जैसा एेसा कोई कदम उठा रही है। प्रधानमंत्री मोदी, वित्त मंत्री अरुण जेटली और तब के गवर्नर रघुराम राजन के अलावा इस योजना की जानकारी प्रधानमंत्री कार्यालय, वित्त मंत्रालय और आरबीआई के सिर्फ कुछ अधिकारियों को थी। यह पूरी योजना प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बनाई थी, जिन्होंने 2014 के चुनाव काले धन पर कड़े प्रहार का वादा किया था।

इस साल मार्च तक 6.3 अरब एक हजार वाले नोट सर्कुलेशन में थे। यानि इसका मूल्य 6,30, 000 करोड़ रुपए हुआ। वहीं 15.7 अरब 500 वाले नोट सर्कुलेशन में थे। इसका मूल्य 7,85,000 करोड़ हुआ। फिलहाल 500 रुपए के नोटों की छपाई कम हुई है।
 


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You