Subscribe Now!

खुदरा के बाद थोक महंगाई दर में भी राहत, जनवरी में घटकर 2.84%

  • खुदरा के बाद थोक महंगाई दर में भी राहत, जनवरी में घटकर 2.84%
You Are HereBusiness
Thursday, February 15, 2018-1:55 PM

नई दिल्लीः जनवरी महीने में खुदरा महंगाई दर के बाद अब थोक महंगाई दर के मोर्चे पर भी राहत मिली है। विनिर्मित उत्पादों के साथ दालों, गेहूं और अनाजों की कीमतों में गिरावट के कारण जनवरी में थोक मूल्य सूचकांक आधारित मुद्रास्फीति की दर घटकर 2.84 प्रतिशत पर आ गई जो छह महीने का निचला स्तर है। इससे पहले दिसंबर 2017 में थोक महंगाई दर 3.58 प्रतिशत रही थी जबकि पिछले साल जनवरी में यह 4.26 फीसदी रही थी।

खाद्य पदार्थ की महंगाई दर में गिरावट
वाणिज्य एवं उद्योग मंत्रालय द्वारा आज जारी आंकड़ों के अनुसार, पिछले साल जनवरी की तुलना में इस साल जनवरी में दालों की कीमत में 30.43 प्रतिशत, गेहूं में 6.94 प्रतिशत और अनाजों में 1.98 प्रतिशत की गिरावट रही है। खाद्य पदार्थ वर्ग की महंगाई दर तीन प्रतिशत रही। अन्य खाद्य पदार्थों में प्याज के दाम एक साल पहले के मुकाबले लगभग तीन गुणा हो गए हैं। इनकी महंगाई दर 193.89 प्रतिशत रही। सब्जियों के दाम 40.77 प्रतिशत बढ़े हैं। धान के दाम 4.59 प्रतिशत, आलू के 8.68 प्रतिशत और फलों के 8.49 प्रतिशत बढ़े हैं। दूध के दाम में 3.93 प्रतिशत की वृद्धि हुई है।

पैट्रोल-डीजल के दाम बढ़े
जनवरी में विनिर्मित उत्पादों की महंगाई दर 2.78 प्रतिशत रही। चीनी की कीमतों में 5.70 प्रतिशत की गिरावट के कारण विनिर्मित खाद्य पदार्थों की महंगाई दर शून्य से 0.94 प्रतिशत नीचे रही यानी इनकी कीमतों में 0.94 प्रतिशत की गिरावट देखी गई। तेल एवं वसा उत्पादों के दाम भी 1.26 प्रतिशत ही बढ़े। अन्य विनिर्मित उत्पादों में बेसिक धातुओं के दाम 12.91 प्रतिशत, इस्पात के 7.47 प्रतिशत, कागज तथा उसके उत्पादों के 6.03 प्रतिशत, मशीनरी एवं उपकरणों को छोड़कर अन्य धातु उत्पादों के दाम 4.78 प्रतिशत बढ़े। ईंधन एवं बिजली वर्ग की महंगाई दर 4.08 प्रतिशत रही। एक साल पहले की तुलना की तुलना में रसोई गैस 19.89 फीसदी महंगी हुई है। डीजल के 7.07 प्रतिशत और पेट्रोल के 1.21 प्रतिशत बढ़े हैं। 

अपना सही जीवनसंगी चुनिए| केवल भारत मैट्रिमोनी पर- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन

Recommended For You