एसबीआईः मुनाफा 34.6% घटा, एनपीए में बढ़ौतरी

  • एसबीआईः मुनाफा 34.6% घटा, एनपीए में बढ़ौतरी
You Are HereResults Company
Friday, November 11, 2016-2:16 PM

नई दिल्लीः वित्त वर्ष 2017 की दूसरी तिमाही में एस.बी.आई. का मुनाफा 34.6 फीसदी घटकर 2538 करोड़ रुपए हो गया है। वित्त वर्ष 2016 की दूसरी तिमाही में एस.बी.आई. का मुनाफा 3879 करोड़ रुपए रहा था। वित्त वर्ष 2017 की दूसरी तिमाही में एस.बी.आई. की ब्याज आय 1.3 फीसदी बढ़कर 14437 करोड़ रुपए पर पहुंच गई है। वित्त वर्ष 2016 की दूसरी तिमाही में एस.बी.आई. की ब्याज आय 14253 करोड़ रुपए रही थी। तिमाही दर तिमाही आधार पर जुलाई-सितंबर तिमाही में एस.बी.आई. का ग्रॉस एन.पी.ए. 6.94 फीसदी से बढ़कर 7.14 फीसदी रहा है। तिमाही आधार पर दूसरी तिमाही में एस.बी.आई. की नेट एन.पी.ए. 4.05 फीसदी से बढ़कर 4.19 फीसदी रहा है।

रुपए में एस.बी.आई. के एन.पी.ए. पर गौर करें तो तिमाही आधार पर दूसरी तिमाही में बैंक का ग्रॉस एन.पी.ए. 1.01 लाख करोड़ रुपए से बढ़कर 1.05 लाख करोड़ रुपए रहा है। तिमाही आधार पर दूसरी तिमाही में एस.बी.आई. का नेट एन.पी.ए. 57421 करोड़ रुपए से बढ़कर 60013 करोड़ रुपए रहा है। तिमाही आधार पर दूसरी तिमाही में एस.बी.आई. के नए एन.पी.ए. 8790 करोड़ रुपए से बढ़कर 10341 करोड़ रुपए रहे हैं। तिमाही आधार पर दूसरी तिमाही में एस.बी.आई. की प्रोविजनिंग 7413 करोड़ रुपए से बढ़कर 7896 करोड़ रुपए रही है, जबकि पिछले साल जुलाई-सितंबर तिमाही में एस.बी.आई. की प्रोविजनिंग 4360.6 करोड़ रुपए रही थी।

महिंद्रा एंड महिंद्रा का मुनाफा 28.8% बढ़ा
वित्त वर्ष 2017 की दूसरी तिमाही में महिंद्रा एंड महिंद्रा का कंसोलिडेटेड मुनाफा 28.8 फीसदी बढ़कर 1253 करोड़ रुपए हो गया है। वित्त वर्ष 2016 की दूसरी तिमाही में महिंद्रा एंड महिंद्रा का कंसोलिडेटेड मुनाफा 973 करोड़ रुपए रहा था। वित्त वर्ष 2017 की दूसरी तिमाही में महिंद्रा एंड महिंद्रा की कंसोलिडेटेड आय 15.6 फीसदी बढ़कर 10173 करोड़ रुपए पर पहुंच गई है। वित्त वर्ष 2016 की दूसरी तिमाही में महिंद्रा एंड महिंद्रा की कंसोलिडेटेड आय 8802 करोड़ रुपए रही थी। साल दर साल आधार पर जुलाई-सितंबर तिमाही में महिंद्रा एंड महिंद्रा का कंसोलिडेटेड एबिटडा 1144.5 करोड़ रुपए से बढ़कर 1468.2 करोड़ रुपए रहा है। सालाना आधार पर जुलाई-सितंबर तिमाही में महिंद्रा एंड महिंद्रा का कंसोलिडेटेड एबिटडा मार्जिन 13 फीसदी से बढ़कर 14 फीसदी रहा है।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You