बनेंगे विशेष योग: Business world में होगी तरक्की, ठंडे पड़े कारोबार भी मुनाफा देंगे

  • बनेंगे विशेष योग: Business world में होगी तरक्की, ठंडे पड़े कारोबार भी मुनाफा देंगे
You Are HereEconomy
Friday, October 13, 2017-8:37 AM

17 तारीख मंगलवार से विशेष योगों के साथ पांच दिवसीय दीपोत्सव पर्व का आरंभ होगा। जो 21 अक्तूबर शनिवार तक चलेगा। ज्योतिष के जानकार कहते हैं की इस महापर्व का आगाज मंगलवार से होने के कारण ये आमजन के लिए शुभता लेकर आएगा। सूर्य, चंद्रमा व अग्नितत्व अनुकूलता लाएंगे, जिससे बाजार में तेजी आएगी और लंबे समय से ठंडे पड़े कारोबार भी मुनाफा देंगे।


दीवाली का त्योहार पांच दिन तक चलता है। इसकी शुरुआत होती है धनतेरस से। दीवाली से दो दिन पहले से ही यानी धनतेरस से ही दीपामालाएं सजने लगती हैं। धनतेरस धन-सम्पत्ति और अच्छी स्वास्थ्य के लिए मनाया जाता है। देवताओं को अमर करने के लिए भगवान विष्णु धनवंतरि के अवतार इसी दिन समुद्र से अमृत का कलश लेकर निकले थे। कार्तिक कृष्ण पक्ष की त्रयोदशी तिथि के दिन धनवंतरि का जन्म हुआ था इसलिए इस तिथि को धनतेरस के नाम से जाना जाता है। निरोग रहने के लिए धनवंतरि की पूजा की जाती है। धनतेरस पर धनवंतरि की पूजा करने से लक्ष्मी जी प्रसन्न होकर दीपावली में धन-वर्षा करती हैं।


इस रोज दोपहर 12.35 पर सूर्य नीच राशि तुला में प्रवेश करेंगे। चंद्रमा पांच दिन तक कन्या व तुला राशि में वास करेंगे। जिससे सूर्य व चंद्रमा के प्रभाव में कमी आएगी और अग्नितत्व प्रबल हो जाएंगे। शास्त्रों के अनुसार दीप माला के इस पर्व पर अग्नितत्व  का प्रभुत्व हावी हो जाता है, ऐसे में अग्नितत्व का बनना अच्छा संयोग है।


कन्या राशि बुध ग्रह का निरूपण करती है। धनतेरस से दिवाली की रात तक चंद्रमा  कन्या राशि में रहेंगे जिससे बिजनैस वर्ल्ड में तरक्की होना निश्चित है। बाजार तेजी पकड़ेगा। शॉपिंग डेस्टिनेशन पर भारी भीड़ रहेगी। दिवाली से भैयादूज तक चंद्रमा तुला राशि में रहेगा जिससे सुंदरता व विलास साधनों में बढ़ौत्तरी होगी। 

विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You